जब हैरी मेट सेजल कैसी फिल्म है ? जानिए


July 26, 2017, 4:46 p.m.

 

नीतू कुमार : जब हैरी मेट सेजल एक ट्रैवल फिल्म है। इम्तियाज अली रोमांस विद जर्नी बनाने में माहिर हैं और उन्होंने इस बार भी निराश नहीं किया है। इम्तियाज अली की फिल्मों में प्यार हमेशा टेढा-मेढा होता है। इनकी फिल्मों में हीरोइन की सगाई किसी और से होती है लेकिन सात फेरे वो किसी और के साथ लेती है। 'जब हैरी मेट सेजल' में भी लव स्टोरी उलझी हुई है ।  

 गुजराती सेजल ( अनुष्का शर्मा ) की सगाई एम्सर्टडम  में  होती है लेकिन सगाई के बाद सेजल की अंगूठी में खो जाती है। अपनी फ्लाइट छोड़कर वो पंजाबी टूअर गाइड हैरी ( शाहरुख खान) अंगूठी ढूंढने में मदद लेती है। अंगूठी ढूंढते हुए वो पूरा यूरोप घूम लेते हैं लेकिन अंगूठी नहीं मिलती हां अंगूठी के साथ-साथ वो अपना दिल भी खो देती है। अमीर खानदान की सेजल एक टूरिस्ट गाइड के प्यार में पड़ जाती है। वहीं दिलफेंक हैरी को भी जिंदगी में पहली बार सच्ची मोहब्बत होती है लेकिन किसी और की मंगेतर के साथ। सेजल खुद को टूरिस्ट गाइड के प्यार में पड़कर अपनी सगाई तोड़ने वाली कैरेक्टरलेस लड़की नहीं मानती । शादी के लिए इंडिया लौट आती है। हैरी और सेजल की लव स्टोरी और उस बेशकीमती अंगूठी का क्या होता है ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।  

शाहरुख खान हैरी गाइड के रोल में दिल जीत लेते हैं। बेहतरीन एक्टिंग है उनकी। शाहरुख का रोमांटिक अंदाज पसंद करने वाले फैन्स खुश हो जाएंगे। फिल्म के 95 फीसदी सीन्स में शाहरुख और अनुष्का हैं। चाहे वो अनुष्का से नोंक-झोंक हो या फिर प्यार के इजहार का वक्त किंग खान बहुत प्रभावित करते हैं। वहीं अनुष्का भी कहीं शाहरुख से कम नहीं हैं। गुजराती लड़की सेजल के किरदार में पूरी तरह से उतरी हुई दिखती हैं अनुष्का। फिल्म में दोनों आपको कहीं भी बोर नहीं करते। शाहरुख और अनुष्का के फैन्स को ये फिल्म जरूर देखनी चाहिए।

फिल्म 'जब हैरी मेट सेजल' अगर आप देखने जाएंगे तो फिल्म के साथ आप यूरोप के मुफ्त दर्शन करेंगे। फिल्म में कैमरा वर्क कमाल का है। यूरोप को बहुत खूबसूरती से दिखाया गया है। एम्सर्टडम, प्राग, बुडापेस्ट, लिस्बन समेत यूरोप के कई शहर और देश फिल्म में दिखाए गए हैं। यात्रा में रूचि रखने वालों को लोगों को ये फिल्म जरूर पसंद आएगी। 

इम्तियाज अली की फिल्में कई बार भटक जाती हैं। बोरिंग हो जाती है लेकिन इस बार उन्होंने कमान संभाल के रखा है। कोई भी सीन जरूरत से ज्यादा लंबा नहीं है। ' जब हैरी मेट सेजल' से दर्शकों ने 'जब वी मेट' जैसी लव स्टोरी की उम्मीद बांध रखी थी। लेकिन  ये फिल्म उस स्तर को नहीं छू पाती पर शाहरुख और अनुष्का ने अपनी एक्टिंग से फिल्म की सारी कमियों को छुपा दिया है।

Related news