Children's day Spl - अगर आपका बच्चा खिलाड़ी बनना चाहता है तो बॉलीवुड की ये फिल्में उसे जरूर दिखाएं


Nov. 14, 2017, 11:27 a.m.

 

 


नीतू कुमार - हर मां बाप का सपना होता है कि उनका बच्चा आगे चलकर खानदान का नाम रोशन करे। कुछ ऐसा करे कि दुनिया उन्हें उनके बेटे-बेटी के नाम से जाने। पढ़ाई लिखाई में ना सही खेलकूद की दुनिया में भी अपना नसीब चमका ले। ऐसे सपने देखने वाले माता-पिता और उनके बच्चों की हमारी बॉलीवुड फिल्में कम प्रेरणा नहीं देती। खेल की दुनिया के सितारों पर बॉलीवुड में तमाम फिल्में बन रही हैं और इन फिल्मों को देखकर कहा जा सकता है कि सपने जो आप देखते हैं वो पूरे हो सकते हैं । बस जरूरत है सच्ची लगन और मेहनत की। 


दंगल  ( 2016 ) 


दंगल फिल्म ने दुनिया भर में करीब 2000 करोड़ का कारोबार किया, इसलिए नहीं कि फिल्म बहुत अच्छी बनी थी। आमिर खान ने गजब की एक्टिंग की थी बल्कि इसलिए की ये फिल्म जहा चाह, वहा राह का पाठ पढ़ाती है। इस फिल्म को लाखों परिवारों ने साथ बैठकर देखा। बच्चों को खासतौर पर फिल्म दिखाया ताकि वो अनुशासन सीखें, अपने लक्ष्य को पाने के लिए मेहनत करें। दंगल हरियाणा कि रेसलर बहनें गीता और बबिता फोगट की कहानी थी। पिता महावीर फोगट ने बेटा ना होने पर बेटियों के जरिए अपने सपने को साकार किया। समाज की परवाह ना करते हुए अपनी बेटियों को पहलवान बनाया। दंगल बॉलीवुड की सबसे बड़ी फिल्म है। इस फिल्म ने अकेले चीन में करीब 1000 करोड़ से ज्यादा का बिजनेस किया। दुनिया भर में दंगल ने भारत का मंगल किया और इस फिल्म ने ब़ॉलीवुड के इतिहास में एक सुनहरा अध्याय लिखा। 

अनटोल्ड स्टोरी ऑफ एम एस धोनी  ( 2015 ) 


भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तान एम एस धोनी की कहानी भी सिनेमा के पर्दे पर उतारी गई। छोटे शहर रांची में पले बढ़े धोनी कैसे खेल की दुनिया के चमकते सितारे बने यही दिखाया गया था फिल्म में। धोनी का संघर्ष, उनकी लगन, उनकी मेहनत, परिवार और समाज का सहयोग ये सब इस फिल्म का हिस्सा था। धोनी की कहानी फिल्मी पर्दे पर खूब चली। फिल्म में करीब 180 करोड़ का बिजनेस किया। इस फिल्म ने क्रिकेट में  अपना करियर बनाने की सोच रहे तमाम युवाओं और बच्चों को प्रेरणा दी। 

मैरी कॉम  ( 2014 ) 

ओमंग कुमार की इस फिल्म में मशहूर भारतीय मुक्केबाज मैरी कॉम का किरदार प्रियंका चोपड़ा ने निभाया। फिल्म को समीक्षकों ने ही नहीं दर्शकों ने भी खूब पसंद किया था। मैरी कॉम को प्रियंका चोपड़ा अपनी जिंदगी की सबसे अहम फिल्मों में से एक मानती हैं। नार्थ ईस्ट की एक आम लड़की मैरी कॉम ने कैसे तमाम बाधाओं को पार करते हुए अपने सपने को साकार किया यहीं कहानी कहती है फिल्म मैरी कॉम। मैरी कॉम की जिंदगी से प्रेरणा लेकर ना जाने कितनी लड़कियों न देश के लिए मेडल जीतने का सपना देखा होगा।


भाग मिल्खा भाग ( 2013 )


 ‘भाग मिल्खा भाग’  खेल और खिलाड़ियों के जीवन पर बनी बॉलीवुड की सर्वश्रेष्ठ फिल्मों में से एक है। फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह भारतीय धावक रहे हैं। मिल्खा ने 1960 और 1964 के ओलंपिक खेलों में हिस्सा लिया था। मिल्खा सिंह ने एशियाई और कॉमनवेल्थ खेलों में कई गोल्ड मेडल हासिल किया था। फरहान अख्तर ने मिल्खा सिंह के रोल में बेहतरीन रहें। मिल्ख् सिंह की जिंदगी पर बनी इस फिल्म को लोगों ने खूब देखा। अपने बच्चों को दिखाया। मिल्खा सिंह बहुत छोटे थे  जब भारत-पाक विभाजन के दौरान उनका परिवार दंगे का शिकार हो गया था लेकिन गरीबी, भूख और तमाम परेशानियों को झेलते हुए भी उन्होंने अपना सपना साकार किया । 

चक दे इंडिया ( 2007 ) 


फिल्म चक दे इंडिया में शाहरुख खान भारतीय महिला हॉकी टीम के कोच की भूमिका में थे। खेल और देशभक्ति को इृस फिल्म ने बखूबी जोड़ा। कहते हैं कि चक दे इंडिया फिल्म मीर रंजन नेगी पर बनी है। नेगी पर 1982 के एशियन गेम्स में भारत-पाक के बीच हुए हॉकी मैच में फिक्सिंंग का आरोप लगा था। 1998 में नेगी ने बतौर हॉकी कोच वापसी की और उस साल एशियन गेम्स में भारत ने गोल्ड मेडल हासिल किया । चक दे इंडिया फिल्म भी जहां चाह वहा राह की पाठ पढाती है। हौसला हो तो बड़ी से बड़ी जंग जीती जा सकती है। चक दे इंडिया फिल्म ने राष्ट्रीय खेल हॉकी का भी मान बढ़ाया।

Related news