Children's day Spl - बच्चों पर बनी वो फिल्में जो दिल को छू गईं


Nov. 14, 2017, 1:39 p.m.

आज 14 नवंबर है और आज का ये दिन बच्चों के लिए बेहद खास हैं। क्योंकि आज है बालदिवस। बाल दिवस दुनियाभर में धूमधाम से मनाया जाता है। स्कूलों और बाकी जगहों पर इस दिन कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। चाचा नेहरू की याद में बच्चे इस दिन को खास बनाते हैं। वहीं बॉलीवुड में भी बाल कलाकारों ने अपने दम पर कई बड़ी फिल्मों को टक्कर दी है। कई ऐसी फिल्में बनी हैं बॉलीवुड में जिनमें बच्चों की अदाकारी ने सभी का दिल जीता है। आइए जानते हैं बॉलीवुड की उन्हीं बेहतरीन फिल्मों के बारे में।

तारे जमीन पर


एक ऐसी फिल्म है जिसने बॉक्स ऑफिस पर तो अच्छी कमाई की ही साथ ही इस फिल्म ने लोगों को दिलों में भी अपनी एक खास जगह बनाई। साल 2007 में आई फिल्म तारे जमीन पर माता-पिता के लिए एक नई सीख दे गई। आमिर खान की इस फिल्म में दरशील सफारी एक 8 साल के बच्चे के रोल में होते हैं, जो पढ़ने में काफी कमजोर होता है। जो करना बहुत कुछ चाहता है लेकिन वो करने में कामयाब नहीं हो पाता है। लेकिन बाद में टीचर की मदद से वही बच्चा सभी का दिल भी जीत लेता है। फिल्म में दरशील सफारी ने जबरदस्त एक्टिंग हैं। फिल्म के जरिए पता चला कि हर बच्चा स्पेशल होता है, उसमें कुछ ना कुछ खास जरूर होता है।

मिस्टर इंडिया


अनिल कपूर औऱ श्रीदेवी की फिल्म मिस्टर इंडिया भी इंडियन सिनेमा में बच्चों के लिए बेहतरीन फिल्मों में से एक है। इस फिल्म में मासूमियत, गरीबी और उस गरीबी से लड़ने की शक्ति ये सब उस फिल्म में दिखाया गया है। फिल्म में अनाथ बच्चों के साथ अनिल कपूर रहते हैं। उन बच्चों का पालन पोषण अनिल कपूर बड़ी ही मेहनत के साथ करते हैं। शेखर कपूर ने अपनी इस मेजिकल फिल्म को बनाकर अपना नाम सर्वश्रेष्ठ डायरेक्टर्स की लिस्ट में दर्ज करवाया है।

स्टेनली का डिब्बा


डायरेक्टर अमोल गुप्ते ने अपनी इस फिल्म से साबित किया कि वाकई अगर कहानी में दम हो तो कुछ भी किया जा सकता है। बच्चों पर आधारित ये फिल्म वाकई लोगों के जहन में बस गई। इस फिल्म की कहानी ने सभी के दिलों को छुआ। फिल्म में दिखाया गया है कि बच्चों पर कभी किसी चीज का ठीकरा नहीं फोड़ना चाहिए। वो एक मासूम फूल की तरह हैं। आप उन फूलों को जितना प्यार से सींचोगे वो उतने ही खिलखिलाएंगे। अमोल गुप्ते ने इमोशंस के जरिए इस कहानी को पेश किया। जिसे कई अवॉर्ड भी मिले।

आबरा का डाबरा


शायद ही कोई ऐसा बच्चा होगा जिसे ये फिल्म पसंद ना हो। साल 2004 में आई फिल्म आबरा का डाबरा बच्चों की फेवरेट फिल्मों में से एक हैं। इस फिल्म में खूब सारी मस्ती, ढेर सारा ड्रामा और जादूई दुनिया की कहानी को दिखाया गया है। फिल्म में एक बच्चा शानू जो जादुई शक्तियों की तलाश में रहता है ताकि वो अपने खोए पिता को खोज कर वापस ला सके। फिल्म की कहानी काफी एंटरटेनिंग है। फिल्म में प्रभुदेवा, श्वेता तिवारी, हंसिका मोटवानी, अनुपम खेर, सतीश कौशिक और अतिथ नायक जैसे स्टार्स होते हैं। फिल्म को धीरज कुमार ने डायरेक्ट किया था। वहीं फिल्म का म्यूजिक हिमेश रेशमिया ने दिया था।

आई एम कलाम


फिल्म आई एम कलाम की कहानी बच्चों के उस जोश और मेहनत को दिखाती है जिनके लिए सपने छोटे-बड़े नहीं होते। भले ही खराब हालात हों लेकिन फिर भी वो बड़ा बनने की सोचते हैं। नील माधव पंडा की ये फिल्म नेशनल अवॉर्ड जीत चुकी है। ये फिल्म बच्चों के लिए किसी आदर्श से कम नहीं है। फिल्म में दिखाया गया है कि एक लड़का हर हालत में इंग्लिश सीखना चाहता है। अपने सपनों को पूरा करना चाहता है और अपने परिवार को हर खुशी देना चाहता है। इस फिल्म को भी दर्शकों द्वारा
काफी पसंद किया गया था।

Related news