Film Review - राजकुमार राव की फिल्म 'शादी में जरूर आना' कैसी है जानिए


Nov. 10, 2017, 5:34 p.m.

 

फिल्म : शादी में जरूर आना 

डायरेक्टर : रत्ना सिन्हा 

स्टार्स : राजकुमार राव, कृति खरबंदा, गोविंद नामदेव 

रेटिंग :  2.5 स्टार 

रिव्यू : नीतू कुमार 

राजकुमार राव अपनी फिल्मों की वजह से लगातार चर्चा में हैं। इसी साल रिलीज हुई 'बहन होगी तेरी', 'बरेली की बर्फी' और 'न्यूटन' जैसी फिल्मों से राजकुमार के फैंस बढ़े हैं।  राजकुमार को लोग पसंद करने लगे हैं। उनकी फिल्मों को देखना चाहते है, उनकी एक्टिंग को सराहते हैं। राजकुमार राव की पिछली फिल्म न्यूटन ऑस्कर में एंट्री पाने में कामयाब रही लिहाजा  उनकी फिल्मों पर लोगों का ध्यान  जरूर रहता है। 'शादी में जरूर आना' के नाम से ही फिल्म की कहानी का अंदाजा लग जाता है। गौर करने वाली बात ये है राजकुमार की ये फिल्म भी यूपी की कहानी कहती है। इससे पहले बरेली की बर्फी और बहन होगी तेरी भी यूपी की स्टोरी थी। राजकुमार राव की फिल्में रियलटी के नजदीक होती हैं। उनकी एक्टिंग नेचुरल होती हैं लिहाजा उनके फैंस  'शादी में जरूर आना' भी देखना चाह रहे होंगे। 

कहानी -   सतेन्द्र उर्फ सत्तू ( राजकुमार राव ) एक दफ्तर में क्लर्क है। परिवार वाले सत्तु के लिए आरती                   ( कृति खरबंदा ) नाम की एक लड़की देखते हैं। शादी से पहले लड़का-लड़की मिलते हैं। दोनों एक दूसरे को पसंद भी कर लेते हैं। इसके बाद शादी की तैयारियां शुरू होती है। सत्तू अपनी शादी को लेकर बहुत खुश है। धूमधूाम से बारात दुल्हन के घऱ पहुंचती है लेकिन दुल्हन शादी की रात गायब हो जाती है। इस वाकये से सत्तू बहुत अपमानित महसूस करता है। उसका पूरा वजूद हिल जाता है। वक्त के साथ सत्तू की जिंदगी आगे बढ़ती है। वो आईएएस अधिकारी बन जाता है।  फिर कुछ समय बाद सत्तू ( राजकुमार राव )  और  आरती  ( कृति खरबंदा ) की राहें फिर मिलती हैं  लेकिन अब सत्तू के दिल में धोखेबाज मंगेतर के लिए प्यार नहीं है। वो उससे बदला लेना चाहता है। फिल्म की कहानी आगे बढ़ती है तो कई और खुलासे होते हैं। 

खासियत -  राजकुमार राव एक्टिंग के मास्टर हैं।  अपनी पिछली फिल्मों की तरह इस फिल्म में भी उन्होंने गजब एक्टिंग की है लेकिन शादी में जरूर आना के कई सीन उनकी पिछली फिल्मों की याद दिलाते हैं। कृति खरबंदा छोटे शहर की लड़की के रोल में ठीक लगती हैं। एक्टिंग भी उन्होंने ठीक-ठाक की है लेकिन राजकुमार राव को मैच नहीं करती । फिल्म के गाने ठीक ठाक हैं और उनका पिक्चराइजेशन भी देखने लायक है। 

कमियां -  इंटरवल तक तो फिल्म ठीक ठाक चलती है लेकिन बाद में बोर करती है। फिल्म की कहानी तो अच्छी लेकिन उसे उतनी अच्छी तरह से पर्दे पर दिखाया नहीं गया है। इस कहानी के साथ ट्रीटमेंट और बेहतर होना चाहिए था। डायरेक्शन कमजोर है। फिल्म बहुत धीमी रफ्तार से चलती है और इंटरवल के बाद लगता है फिल्म जल्दी खत्म हो। शादी पर राजकुमार पहले भी कई फिल्में कर चुके हैं। एक तरह की फिल्में उन्हें नहीं करनी चाहिए। फिल्म का ट्रेलर जितना अच्छा है फिल्म उतनी अच्छी नहीं लगती। हमारी तरफ से फिल्म को 2.5 स्टार। 

 

 

Related news