‘नानक शाह फकीर’ फिल्म पर बैन की मांग, SGPC ने मोदी को लिखी चिट्ठी

3 years ago

अमृतसर (10 अप्रैल) : शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) ने केंद्र से फिल्म ‘नानक शाह फकीर’ पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। एसजीपीसी का कहना है कि गुरु नानक देव को ‘जीवित अवस्था’ में दिखाना सिख धर्म के सिद्धांतों के ख़िलाफ़ है। ये फिल्म 17 अप्रैल को रिलीज़ होने जा रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सूचना-प्रसारण मंत्री अरुण जेटली को लिखी चिट्ठी में एसजीपीसी अध्यक्ष अवतार सिंह मक्कड़ ने फिल्म की रिलीज़ पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। मक्कड़ ने चिट्ठी में लिखा है कि ऐसा कोई दृश्य नहीं दिखाया जाना चाहिए जिसमें सिखों के प्रथम गुरु (गुरु नानक देव), या उनके परिवार के किसी भी सदस्य को ‘जीवित अवस्था’ में दिखाया जाए। ये सिख धर्म के नियमों के ख़िलाफ़ है।

चिट्ठी में मक्कड़ ने लिखा है, ‘एसजीपीसी प्रमुख के नाते मेरा कर्तव्य है कि आपको सूचना दूं कि सेंसर बोर्ड ने फिल्म को हरी झंडी दिखाते हुए ना तो किसी सिख प्रतिनिधि से इस बारे में पूछा और ना ही सिखों की प्रमुख संस्था एसजीपीसी से राय ली।’ मक्कड़ ने कहा कि फिल्म के प्रोड्यूसर ने ये अफवाह फैलाई है कि उसने सिखों की सर्वोच्च धार्मिक संस्था अकाल तख्त से फिलम के लिए अनुमति ली है।

अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने कहा कि सिख परंपरा के विपरीत फिल्म में कुछ भी दिखाए जाना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस बीच ‘दल खालसा’ के प्रवक्ता कंवर पाल सिंह ने भी फिल्म के निर्माता और कलाकारों को फिल्म की रिलीज़ के ख़िलाफ़ चेतावनी दी है।

Related Posts