परवीन बॉबी की मौत के 11 साल बाद आया कोर्ट का फैसला, 80% प्रॉपर्टी गरीबों को मिलेगी

2 years ago

मुंबई: परवीन बॉबी की मौत के बाद उनकी संपत्ति को लेकर चल रहा विवाद खत्म हो गया है। कोर्ट के फैसले के तहत परवीन की संपत्ति का 80% हिस्सा महिलाओं और बच्चों की मदद के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। बाकि का हिस्सा उनके चाचा मुराद खान बॉबी को दिया जाएगा।

बता दे, यह फैसला उनके मौत के 11 साल बाद आया है। बॉम्बे हाईकोर्ट के जस्टिस जी.एस. पटेल ने 14 अक्टूबर को परवीन बॉबी की इच्छा के अनुसार संपत्ति के बटवारे का फैसला दिया। परवीन बॉबी की वसीयत के इन प्रावधानों पर मुहर लगा दी है। हाईकोर्ट ने 23 दिसंबर तक आदेश की तामील करने की ताकीद की गई है। परवीन बॉबी मूलत:जूनागढ़ की थीं। साल 2005 में उनकी मृत्यु हो गई थी। परवीन बॉबी के मामा मुराद खान उनकी वसीयत लेकर सामने आए थे, जिसे बॉबी परिवार के तीन सदस्यों ने अवैध बताते हुए इसकी वैद्यता को चुनौती दी तो मामला हाईकोर्ट पहुंचा था।

परवीन की संपत्ति

-जुहू समुद्र तट क्षेत्र में रिवेरा अपार्टमेंट में 2300 वर्गफीट का फ्लैट -जूनागढ़ हवेली -आभूषण -20 लाख रुपए की बैंक एफडी -जूनागढ़ की एसबीआई बैंक में परवीन बॉबी के नाम का लॉकर है -1000 वॉर में जूनागढ़ में मकान।

स्कूल और मामा को मिली हिस्सेदारी, बनाना होगा ट्रस्ट

अभिनेत्री ने अपने परिवारजनों को संपत्ति में कोई हिस्सेदारी नहीं दी। परवीन बॉबी की संपत्ति जूनागढ़ एवं मुंबई में हैं। बॉबी परिवार के तीन सदस्य एवं अभिनेत्री के मामा मुराद खान के बीच कानूनी जंग चली। हाल ही में बॉम्बे हाईकोर्ट ने परवीन बॉबी की वसीयत के अनुसार संपत्ति के बंटवारे-प्रबंधन का फैसला दिया है। वसीयत के अनुसार संपत्ति के प्रबंधन के लिए एक न्यास बनाना होगा जो गरीब महिलाओं एवं बच्चों की मदद एवं कल्याण का काम करेगा। बॉबी ने संपत्ति का 10 प्रतिशत हिस्सा अहमदाबाद के सेंट जेवियर कॉलेज को दिया है, वे इस कॉलेज की छात्रा रही थीं। अंग्रेजी साहित्य की पढ़ाई की थी। इसके बाद मॉडलिंग में भविष्य आजमाते हुए फिल्म में पहुंची। वीह इनकी प्रॉपर्टी का वैल्युएशन होना अभी बाकी है। रिपोर्ट, ई-24

Related Posts