फिल्म 'शोले' को लेकर बड़ा खुलासा, पैसे नही थे फिल्म बनाने के लिए: रमेश सिप्पी

2 years ago

मुंबई: आज एक फिल्म की शूटिंग के दौरान बड़े स्टार्स के लंच-डीनर पर जितना खर्च हो जाता है उससे भी कम पैसे फिल्म 'शोले' की पूरी स्टार कॉस्ट को मिले थे और शोले भारतीय सिनेमा की सबसे लोकप्रिय फिल्म मानी जाती है। इस फिल्म को लेकर रमेश सिप्पी ने एक खुलासा किया है।

बॉलीवुड में 80 के दशक की Sex सिंबल परवीन बॉबी,मौत पर अब भी राज

दरअसल, वर्ष 1975 में आई बॉलीवुड की मशहूर फिल्म ‘शोले’ के निर्देशक और दिग्गज फिल्म निर्माता रमेश सिप्पी का कहना है कि उस वक्त ‘शोले’ बनाने के लिए उनके पास पर्याप्त पैसे नहीं थे और वह अपने दिवंगत पिता जी.पी. सिप्पी पर निर्भर थे, जिन्होंने उन्हे तीन करोड़ रुपये दिये थे।

सिप्पी ने कहा, “उस समय ‘शोले’ बनाने के लिए मेरे पास पर्याप्त बजट नहीं थे. मेरे पास कुछ विचार थे, जिसे मैंने अपने पिता से साझा किए. उनकी अंतिम फिल्म ‘सीता और गीता’ थी, जिसे बनाने में 40 लाख रुपये लगे थे. यह बड़ी हिट रही थी. मैंने उनसे कहा, “मुझे फिल्म बनाने के लिए एक करोड़ रुपये चाहिए. शोले बनाने में 3 करोड़ रुपये लगे थे.” फिल्म बनाने में कुल तीन करोड़ रुपये लगे थे और स्टार कास्ट में मात्र 20 लाख रुपये लगे। उस समय बहुत से लोगों को हमारे विवेक पर शक था। उन्होंने कहा, “आज के समय में यदि आप 150 करोड़ रुपये की फिल्म बनाते हैं तो उसमें से 100 करोड़ रुपये स्टार कास्ट में ही लग जाते हैं. आज का फिल्म निर्माण व्यवसाय एकतरफा हो गया है.”

अमिताभ बच्चन बर्थडे विश करने पहुचे हेमा मालिनी के घर, धर्मेद्र रहे गायब

रमेश सिप्पी ने उन दिनों की फीस को लेकर एक और किस्सा बताया। कहा " मुझे याद है दिलीप कुमार ने उस ज़माने में किसी फिल्म में काम करने के लिए एक लाख रूपये फीस की मांग की थी तब लोगों ने कहा कि ऐसे तो इंडस्ट्री ही बंद हो जायेगी।

गौर हो, ‘शोले’ में संजीव कुमार, अमिताभ बच्चन, धर्मेद्र, हेमा मालिनी और जया बच्चन मुख्य भूमिकाओं में थे. यह बॉक्स ऑफिस पर काफी सफल रही थी और यह भारतीय सिनेमा की सर्वश्रेष्ठ फिल्म मानी जाती है। रिपोर्ट, ई-24

Related Posts