मुंबई फिल्म फेस्टिवल में पाकिस्तानी क्लासिक फिल्म 'जागो हुआ सवेरा' नहीं दिखाई जाएगी

2 years ago

मुंबई: मुंबई में 20 अक्टूबर से 18वें जियो मामी मुंबई फिल्म फेस्टिवल शुरू हो रहा है, जहां दुनिया भर की कई फिल्में एक जगह देखने को मिलेगी, वही इसके आयोजकों ने पाकिस्तानी की एक फिल्म को न दिखाने का फैसला लिया है।

बता दें, पाकिस्तान की क्लासिक फिल्म 'जागो हुआ सवेरा' को न दिखाने का फैसला लिया गया है। आयोजकों ने ये फैसला एक स्थानीय एनजीओ ‘संघर्ष’ के विरोध के बाद लिया।

-एनजीओ फेस्टिवल के आयोजकों पर राष्ट्रवादी भावनाओं के संग खिलवाड़ का आरोप भी लगाया गया था। एनजीओ ने पुलिस से फेस्टिवल के खिलाफ प्रदर्शन करने की भी इजाजत मांगी है। -1958 में बनी फिल्म 'जागो हुआ सवेरा' के निर्देशक एजे कारदार थे इस फिल्म का निर्माण अविभाजित पाकिस्तान (जब बांग्लादेश आजाद नहीं हुआ था) में बनी थी। फिल्म की शूटिंग ढाका में हुई थी -फिल्म को 1960 के ऑस्कर अवार्ड में सर्वेश्रेष्ठ विदेशी भाषा वर्ग श्रेणी में नामांकित किया गया था। मामी फेस्टिवल में इस फिल्म को ‘रिस्टोर्ड क्लासिक’ वर्ग में दिखाया जाना था। ‘रिस्टोर्ड क्लासिक’ वर्ग का संचालन फिल्म अभिनेता आमिर खान की पत्नी किरण राव करने वाली हैं।

-फिल्म 'जागो हुआ सवेरा' की कहानी बांग्ला के प्रसिद्ध कथाकार मानिक बंदोपाध्याय की कहानी पर आधारित है जिसमे बांग्लादेश (तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान) के मछुवारों के जिवन को दिखाया गया है।

27 अक्टूबर तक चलने वाले मामी फिल्म फेस्टिवल में 54 देशों की 180 से अधिक फिल्में दिखाई जाएंगी। फिल्म फेस्टिवल के दौरान मुंबई के विभिन्न इलाकों के सिनेमाघरों में फिल्में दिखाई जाती हैं जिसके लिए दर्शकों को पहले से पंजीकरण कराना होता है। मामी फेस्टिवल में बॉलीवुड के अलावा दूसरे देशों की मशहूर सिनेहस्तियां भागीदारी करती रही हैं।

गौर हो भारत के उरी में हुए आतंकी हमले के बाद से ही बॉलीवुड में काम करने वाले पाकिस्तानी कलाकारों के खिलाफ विरोध हो रहे हैं, यहां तक की उनकी फिल्मों को न रिलीज करने का फैसला लिया जा रहा है, और इस फिल्म पर भी उरी हमले का असर दिख रहा है। रिपोर्ट, ई-24

Related Posts