आलीशान घर में रहती हैं जया प्रदा, जन्मदिन के मौके पर देखिए उनके घर की तस्वीरें

3 weeks ago


बॉलीवुड की वेटरन एक्ट्रेस जया प्रदा का आज यानी 3 अप्रैल  को 57वां बर्थडे है। बॉलीवुड अभिनेत्री और पूर्व सांसद जया प्रदा भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गई हैं।  जयाप्रदा लोकसभा चुनाव यूपी के रामपुर सीट से चुनाव लड़ेंगी और समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार आजम खान को टक्कर देंगी। जया प्रदा के जन्मदिन पर हम आपको उनके घर की तस्वीरें दिखाएंगे। 



जयाप्रदा आज अपने फिल्मी और राजनीतिक करियर से आज बड़े मुकाम पर हैं। फिल्म मवाली, तोहफा, शराबी, औलाद, सरगम और मां जया के करियर की मील का पत्थर साबित हुईं।  बॉलीवुड में अपने जमाने की मशहूर रहीं जया प्रदा के जिंदगी में कई बदवाए आए।



जय प्रदा का जन्म 3 अप्रैल 1962 में आंध्र प्रदेश के राजाहमुंडरी जिले में हुआ था। जय प्रदा का असली नाम ललिता रानी है। 





फिल्मों में आने के बाद जैसे कई कलाकारों ने अपने नाम बदले, वैसे ही ललिता रानी, जया प्रदा हो गईं। जया प्रदा ने तेलुगू फिल्म 'भूमिकोसम' से अपने करियर की शुरूआत की। 



आपको जान कर हैरानी होगी की जयाप्रदा को इस फिल्म के लिए महज 10 रुपए बतौर फीस के तौर पर दिए गए थे। साउथ की फिल्मों में खूब नाम कमाने के बाद जया ने बॉलीवुड की ओर रुख किया। 



साल 1979 में के. विश्वनाथ की 'श्री श्री मुवा' की हिंदी में रिमेक 'सरगम' के जरिए उन्होंने बॉलीवुड में कदम रखा। इस फिल्म में उन्होंने मूक डांसर की भूमिका निभाई थी। जया सही से हिंदी नहीं बोल पाती थी, जिसकी वजह से करियर के शुरुआती दौर में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।




 30 साल  के फिल्मी करियर के दौरान जया ने 300 फ़िल्मों में काम किया है। वे चेन्नई में एक थियेटर की मालकिन भी हैं। 1982 में रिलीज हुई फिल्म 'कामचोर' में जया ने पहली बार ऑनस्क्रीन फ्लूएंट हिंदी बोली थी।  




अमिताभ बच्चन के साथ सुपरहिट फिल्म 'शराबी' में उनकी भूमिका को काफी सराहना मिली। इस फिल्म में उनके डांस परफॉर्मेंस के लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है। 




साल 1986 में जया प्रदा ने ने निर्माता श्रीकांत नाहटा से शादी की। जयाप्रदा श्रीकांत की दूसरी पत्नी थीं। नाहटा के पहली पत्नी से तीन बच्चे थे। इस दौरान काफी विवाद खड़ा हुआ था, क्योंकि श्रीकांत ने पहली पत्नी को तलाक दिए बिना जया प्रदा से शादी की थी। 

1994 में तेलगु देशम पार्टी ज्वाइन की। इस दौरान उन्होंने पार्टी के लिए जमकर प्रचार भी किया। इसके बाद जया ने समाजवादी पार्टी ज्वाइन की। । इसके बाद जया ने उत्तर भारत की ओर रुख कर उत्तर प्रदेश का बड़ा राजनीतिक दल समाजवादी पार्टी को चुना। साल 2004 में हुए लोकसभा चुनाव में जयाप्रदा ने उत्तर प्रदेश की रामपुर सीट से चुनाव लड़ा और जीत गईं। लेकिन समाजवादी पार्टी में जया का सफर लंबा ना चल सका और पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त पाए जाने के चलते जयाप्रदा को पार्टी से निष्कासित कर