single-post

अपने दम पर आज सुपरस्टार बने हैं नवाजुद्दीन, ISOMES के मंथन कार्यक्रम में करेंगे शिरकत

March 12, 2019, 8:54 p.m.

एक बार फिर से BAG नेटवर्क में NEWS 24 की तरफ से तीन दिवसीय जश्न होने जा रहा है। दरअसल इस साल फिर से BAG नेटवर्क के मीडिया इंस्टीट्यूट ISOMES का सालाना कार्यक्रम मंथन हो रहा है। तीन दिनों तक चलने वाले इस कार्यक्रम में कई सितारे शिरकत करने वाले है। साथ ही खूब सेलिब्रेशन होने वाला है। ये कार्यक्रम 13, 14 और 15 मार्च तक चलेगा। इस कार्यक्रम में कई सितारे शिरकत करने वाले है। कार्यक्रम में नवाजुद्दीन सिद्दीकी हिस्सा बनने वाले है। 

नवाजुद्दीन के बारे में आज शायद ही कोई होगा वो नहीं जानता होगा। नवाज एक ऐसे एक्टर हैं जिनकी एक्टिंग का हर कोई दीवाना है। अपनी एक्टिंग से वो सबका दिल जीत चुके हैँ। नवाजुद्दीन सिद्दीकी बीते दिनों ही फिल्म बाल ठाकरे में नजर आए थे। इस फिल्म में नवाज की एक्टिंग और नवाज के लुक ने सभी का खूब ध्यान खींचा था। उनके बोलने का तरीका भी हुबहू उनके जैसा ही था। 

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फनगर जिले के बुधाना कस्‍बे में एक मुस्लिम परिवार में जन्मे नवाजुद्दीन ने आज ये मुकाम अपनी बदौलत पाया है। नवाज ने अपने करियर की शुरूआत 'शूल' और 'सरफरोश' जैसी फिल्‍मों से की थी। 1999 में शूल फिल्म में नवाज ने वेटर का रोल किया था। लेकिन किसी को क्या पता था कभी साइड रोल वाले नवाज फिल्मी पर्दे के सुपरस्टार बन जाएंगे। शुरूआती दिनों में नवाजुद्दीन ने थिएटर ज्वॉइन किया और इसके बाद उन्होंने अपना फिल्मी सफर शुरू किया। नवाज बताते हैं कि मुंबई में संघर्ष का यह ऐसा समय था कि वह एक समय खाना खाते तो दूसरे समय के लाले पड़ जाते।

 उन्होंने कई बार हार मानने की सोची और सब कुछ छोड़कर वापस गांव जाने का सोचा. लेकिन फिर याद आता कि वह गांव क्या मुंह लेकर जाएंगे। नवाज के पास कभी इतने पैसे भी नहीं थे कि वो एक कमरे का किराया भी दे सके। लेकिन नवाज ने हार नहीं मानी और वो आगे बढ़ते रहे। फिल्म इंड्स्ट्री में खुद को स्थापित करने में नवाज को 14 साल लग गए। 

इस दौरान वो कई बार गिरे कई बार टूटे लेकिन उनके हौसले बुलन्द थे जिन हौसलो ने आज उन्हें इस मुकाम पर पहुंचा दिया। लीड रोल में उनकी पहली फिल्म एक वेडिंग सिंगर चक्कू के रूप में भी जिस रोल को उन्होंने प्रशांत भार्गव की पतंग में निभाया था। इसके बाद उन्हें असली पहचान आमिर खान के प्रोडक्शन में बनी फिल्म पीपली लाइव से मिली जो 2010 में आई। 

इसके बाद वो बॉलीवुड की सीढ़ी चढ़ते गए। 2012 में वो कहानी में आए तो वहीं अनुराग कश्यप की गैंग्स ऑफ वासेपुर ने उन्हें आसमान पर पहुंचा दिया। साल 2012 में उनकी फिल्म मिस लवली कांस फिल्म फेस्टिवल में भी की गयी थी, इस फेस्टिवल में उन्हें “मोस्ट रियल परफ़ॉर्मर” का दर्जा भी दिया गया था। इसके बाद वो किक, बजरंगी भाईजान, मांझी- द माउंटेनमैन समेत कई फिल्मों में दिखे। जल्द ही वो फोटोग्राफ और बोले चूड़ियां में नजर आएंगे।