अक्षय कुमार ने किया ये बड़ा काम, आपको भी हो जाएगा खिलाड़ी से प्यार

4 months ago

बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार अपनी ऐक्टिंग के लिए तो मशहूर है ही सोशल वर्क को लेकर भी काफी सुर्खियां में रहते है। चाहे वो हमारे शहीद जवानों के परिवारों की मदद हो या फिर ऐसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल। जी हां ऐसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल के लिए अक्षय कुमार एक भगवान के रुप में सामने आए है।

दरअसल, ऐसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी ने बताया कि उनके पास इतने भी पैसे नहीं है कि वह अपना रोज का खर्चा चला सकें। जिस छोटे से घर में वह रहती हैं उसका खर्चा और बेटी को खिलाने के लिए भी उनके पास पैसे नहीं हैं। अभी तक उन्हें कोई रोजगार भी नहीं मिल सका है जिससे वह कमाई कर सकें। बस फिर क्या था खिलाड़ी अक्षय को जैसे ही इस बारे में पता चला उन्होंने उसी वक्त लक्ष्मी की मदद करने के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया और लक्ष्मी को 5 लाख की मदद की।

जब इस बात का लोगों को पता चला तो कई और लोग उनकी मदद के लिए आगे आए और लक्ष्मी को जॉब ऑफर की गई। बता दें कि लक्ष्मी दिल्ली के लक्ष्मी नगर इलाके में एक दो कमरों के घर में रहती हैं। वह अपने लिव-इन बॉयफ्रेंड और बच्ची के पिता आलोक दीक्षित से अलग हो चुकी हैं।

लक्ष्मी के मुताबिक, अब से चार साल पहले उनका जीवन काफी बेहतर तरीके से चल रहा था। लक्ष्मी अपने पार्टनर और स्‍टॉक एसिड अटैक कैंपेन के संस्थापक आलोक दीक्षित के साथ लिव-इन रिलेशशिप में रह रही थी। उनसे लक्ष्मी को एक बेटी भी है। लेकिन बेटी के जन्म के कुछ समय के बाद से दोनों के बीच अनबन शुरू हुई और दोनों अलग हो गए। आपको बता दें आलोक और लक्ष्मी ने मिलकर एक एनजीओ छांव की भी नींव डाली लेकिन अब सब बंद होने की कगार पर है। आलोक के साथ मतभेद के बाद उनके पास से नौकरी भी चली गई जिससे उन्हें महीने के लगभग 10 हजार रूपये की सैलरी आती थी।

लक्ष्‍मी पर 2005 में उनका पीछा करने वाले एक शख्‍स ने एसिड डाल दिया था। अपनी हिम्‍मत से एसिड हमलों के खिलाफ लड़ाई का चेहरा बनीं लक्ष्‍मी को दुनियाभर में सम्‍मान और शोहरत मिला। 2014 अमेरिका की तत्‍कालीन प्रथम महिला मिशेल ओबामा ने अमेरिकी स्‍टेट डिपार्टमेंट की ओर से इंटरनेशनल वुमेन ऑफ करेज अवॉर्ड प्रदान किया गया था। लक्ष्मी अच्छी नौकरी की तलाश में है लेकिन 10वीं पास होने के कारण उन्हें कोई अच्छी नौकरी भी नहीं मिल पाती। वह कहती हैं कि वह ट्रेन्‍ड ब्‍यूटीशियन है लेकिन लोग उनके चेहरे को देखकर डर जाते हैं। इसलिए उन्होंने कॉल सेंटर में नौकरी करने की सोची लेकिन वहां भी काम नहीं बना। फिलहाल लक्ष्मी अपनी बेटी पीहू के साथ दिल्ली में रह रही है।