अक्षय की फिल्म 'टॉयलेट -एक प्रेम कथा' पर हंगामा क्यों बरपा है ?

1 years ago

पहले तो लोग कन्फ्यूज़ थे कि टॉयलेट पर कोई प्रेम कहानी बन कैसे सकती है । फ़िर लोग इस पर कन्फ्यूज़ हुए कि टॉयलेट की कहानी कॉपी कहां से है क्योंकि हर तीसरे दिन, कोई दूसरा शख़्स - टॉयलेट पर इल्ज़ाम लगा देता है कि अक्षय कुमार स्टारर - टॉयलेट तो उसने पिछले साल, या फिर पिछले के पिछले साल बनाई है। मार्केट में नया-नया आया है कि तमिल फ़िल्म - जोकर से टॉयलेट के फ़िल्म मेकर्स ने इस कहानी के राइट्स भारी-भरकम क़ीमत पर इस शर्त पर खरीदें हैं कि वो किसी को बताएं नहीं, कि टॉयलेट उनकी फ़िल्म से इंस्पायर्ड है।और इसकी वजह ये बताई जा रही है कि नेशनल फ़िल्म अवॉर्ड्स की कैटेगरी में - रीमेक फ़िल्म्स को शामिल नहीं किया जा सकता है । अब ये दूर की कौड़ी - कहां से कोई निकालकर लाया है...कोई नहीं जानता...

वैसे आपको बताते चले कि तमिल फ़िल्म - जोकर को पिछले साल ही बेस्ट तमिल फ़िल्म का नेशनल अवॉर्ड मिला है... और जोकर की कहानी भी टॉयलेट वाली लवस्टोरी पर बेस्ड है...बस डिफरेंस ये है कि वहां सोसायटी का टैबू नहीं, बल्कि गर्वमेंट स्कीम से बनाए जाने वाले टॉयलेट फंड की चोरी कहानी है... । नतीजा - तमिल जोकर और अक्षय की टॉयलेट एक प्रेम कथा की सिमिलैरिटी वाला क्लेम फर्जी साबित हो जाता है.आगे बढ़ें.तो बताया जा रहा है कि टॉयलेट एक प्रेमकथा - मध्यप्रदेश के बैतुल में रहने वाली अनीता बाई नारे की रीयल कहानी पर बेस्ड है। 

बताया ये भी जा रहा है कि डायरेक्टर - और एक्ट्रेस भूमि पदनेकर अनीता से मिलने उनके घर गए थे...जहां उन्हें एक एग्रीमेंट और 5 लाख रुपए का चेक दिया गया.अब ख़बरें ये हैं कि अनीता ने इस एग्रीमेंट को साइन करने से मना कर दिया है...। मेकर्स का क्लेम है कि ये अनीता की कहानी नहीं है... वो बस फ़िल्म को कानूनी मुश्किलों से दूर रखने के लिए ये कर रहे हैं। वहीं अनीता - टॉयलेट से जो भी फायदा होगा, उसमें अपना शेयर मांग रही हैं। कमाल है ना, पहली बार सुना है - कि कोई टॉयलेट पर भी क्लेम मांगता है। 

खैर क्लेम तो छोड़ दीजिए - फेम की गुंजाइश सरासर बनी हुई है - डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म मेकर प्रवीण व्यास ने तो टॉयलेट एक प्रेम कथा के एक्टर, डायरेक्टर और मेकर्स को नोटिस भेज चुके हैं.... । उनका दावा है कि ये उनकी डॉक्यूमेंट्री फिल्म - मानिनी से मिलती जुलती है। अब सच तो ये है कि 2016 में आई डॉक्यूमेंट्री मानिनी वाकई ऐसी ही कहानियों पर बेस्ड है... लेकिन डॉक्यूमेंट्री और फ़िल्म में फर्क होता है। दूसरे मानिनी - 2016 में आई...और टॉयलेट एक प्रेम कथा की स्टोरी इसके राइटर्स ने 2014 में रजिस्टर्ड करवा ली...ऐसे में पलड़ा - टॉयलेट का ही भारी है...। अक्षय खुद बता चुके हैं कि चार साल से टॉयलेट की स्टोरी लेकर इसके राइटर्स गरिमा और सिद्धार्थ भटक रहे थे।

लेकिन इल्ज़ाम है कि - टॉयलेट पर लगते जा रहे हैं, प्रेशर है कि टॉयलेट पर बढ़ता ही जा रहा है....जयपुर के फ़िल्म मेकर - विपिन ने - फ़िल्म के ट्रैक - हंस मत पगली प्यार हो जाएगा के टाइटल लाइन पर चोरी का इल्ज़ाम लगा दिया...बाकयदा नोटिस भेज दिया... सुनवाई अब भी जारी है।और तो और टॉयलेट का प्रेशर और बढ़ा जब - कोरियोग्राफ़र डायरेक्टर - रेमो डिसूज़ा ने अक्षय कुमार को बताया कि उनके जिम इंस्ट्रक्टर के पास - ट्यूबलाइट का रफ़ प्रिंट - पेन ड्राइव पर पड़ा हुआ है...। Viacom 18 और अक्षय के होश ही उड़ गए... इस प्रिंट को मेकर्स के पास और ख़बर को क्राइम ब्रांच तक पहुंचाया गया....। अक्षय ने ट्विटर पर फैन्स से सिफारिश की...कि वो पायरेसी को बढ़ावा ना दें..। खैर मुश्किलों से ये सिचुएशन भी हैंडल हुई है। टॉयलेट एक प्रेम कथा बस रिलीज़ को तैयार है, इल्ज़ामों - हंगामों का प्रेशर बरकरार है क्या आप अक्षय के साथ - स्वस्थ भारत वाली इस मुहिम के लिए तैयार हैं ?

Related Posts