फ्लैशबैक- आशिकी गर्ल अनु अग्रवाल के साथ उस रात क्या हुआ ? बॉलीवुड से क्यों गायब हो गई !

1 years ago

 

कुछ कहानियां कही जाने के लिए बेताब होती है तो कुछ कहानियां खुद को बयां करती हैं ऐसी ही एक कहानी एक ऐसी लड़की की है, जो दमकते हुए सिल्वर स्क्रीन पर आई - आशिकी करना सिखा गई... और फ़िर यूं गुम हो गई कि ढूंढे से भी ना मिली । 21 साल की उम्र में फिल्म ‘आशिकी’ से बॉलीवुड में कदम रखने वाली अभिनेत्री अनु अग्रवाल की पहचान एक बोल्ड एक्ट्रेस के रूप में बनी। 

1 जनवरी 1969 को दिल्ली में जन्मी अनु अग्रवाल उस समय दिल्ली विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र की पढ़ाई कर रही थीं, जब महेश भट्ट ने उन्हें अपनी आने वाली फ़िल्म ‘आशिकी’ में पहला ब्रेक दिया। सांवली सलोनी और लंबे कद की सीधी-साधी दिखने वाली अनु ने अपनी पहली ही फिल्म से दर्शकों के दिलों पर कब्जा कर लिया। इस फिल्म से देश को पहली सुपरमॉडल मिली थी। फिल्म ‘आशिकी’ में अनु का ग्लैमरस अंदाज काम कर गया और यह फिल्म उस समय की ब्लॉकबस्टर फिल्म साबित हुई। इस फिल्म से अनु बॉलीवुड की सनसनी बन गईं ।

खूबरसूरत अनु ने छह साल में छह फिल्मों में काम किया। उनकी ‘गजब तमाशा’, ‘खलनायिका’, ‘किंग अंकल’, ‘कन्यादान’ और ‘रिटर्न टू ज्वेल थीफ़’ फिल्में कब पर्दे पर आईं और कब चली गईं, पता ही नहीं चला. उन्होंने एक तमिल फ़िल्म ‘थिरुदा-थिरुदा’ में काम किया है। यहां तक अनु ने एक शॉर्ट फ़िल्म भी की थी, जिसने उन्हें चर्चा के केंद्र में ला खड़ा किया था, उसका नाम ‘द क्लाऊड डोर’ था ।  उन्होंने फिल्मों में किरदार और कहानी के अनुसार बोल्ड सीन करने से कभी परहेज नहीं किया. इसमें वह न्यूड सीन करती दिखीं। अनु आखिरी बार 1996 में फिल्म ‘रिटर्न ऑफ ज्वैल थीफ’ में दिखाई दी थीं।

1999 में एक रात अनु आधी रात को पार्टी से लौट रही थी कि उनकी कार का एक्सीडेंट हो गया जिसमें वह बुरी तरह से घायल हो गई। इस हादसे में उनका चेहरा पूरी तरह लहूलुहान हो गया। मुंबई की सड़क पर तड़पती अनु को किसी ने नहीं पहचाना। अनु को मुंबई पुलिस ने घायल अवस्था में ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया था। वह कोमा में चली गई. और 29 दिन बाद जब अनु को होश आया तो वह सब भूल चुकी थी। अनु ने अपनी याददाश्त खो दी थी. इसके बाद वह बिहार के मुंगेर स्थित प्रसिद्ध योग साधना केंद्र में चली गईं। जहां वह अपनी याददाश्त को वापस पाने के लिए योग साधना करने लगीं। कई सालों की कड़ी मेहनत के बाद अनु की याददाश्त वापस आ गई। उन्हें अपना अतीत याद आ गया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।अनु के हाथ से सब निकल गया था। एक तरह से अनु का यह एक पुनर्जन्म ही था। 

अनु 48 साल की हो चुकी हैं उन्होंने अब तक शादी भी नहीं की है। वे अकेले अपना जीवन गुजार रही हैं। फिल्मी दुनिया से भी उनकी खोज खबर लेने वाला कोई नहीं है। आज अगर आप उन्हें देखेंगे तो शायद पहचान भी नहीं पाएंगे। अनु ने साल 2015 में अपनी आत्मकथा भी लिखी। 

अनु ने सबको अपनी इस भयानक दुर्घटना से रूबरू कराने के लिए आत्मकथा लिखी है। उन्होंने अपनी आत्मकथा को ‘अनयूजुअल’ नाम दिया है इसमें उन्होंने अपनी करियर, दुर्घटना और जिंदगी से संघर्ष के बारे में लिखा है। बताया जाता है कि अनु इन दिनों बिहार अपना एक योग संस्थान के चला रही हैं। उन्होंने अपने सोशल एकाउंट पर कुछ फोटोज भी शेयर किए थे। वे सोशल एकाउंट पर कम ही एक्टिव रहती हैं। अनु मुंगेर में लोगों को योग की शिक्षा देती हैं।

Related Posts