76 साल की हुईं आशा पारेख, कम उम्र में शुरू किया था फिल्मी करियर

3 months ago

बॉलीवुड की बेहद खूबसूरत अदाकारा आशा पारेख आज अपना 76वां जन्मदिन मना रही है। फिल्म इंडस्ट्री की ‘जुबली गर्ल’ के नाम से पहचाने जाने वाली आशा पारेख का जन्म एक गुजराती परिवार में हुआ था। उनके पिता हिन्दू थे तथा मां मुस्लिम थीं। आशा की खूबसूरती पर लाखों लोग मरते है। लेकिन वह आज भी कुवारी है। आशा ने अपने जमाने में कई लोगों को शादी के लिए इंकार करके दिल तोड़े है। जिसकी वजह है निर्देशक नासिर हुसैन। कहा जाता है कि आशा पारेख का नाम आमिर खान के अंकल और निर्देशक नासिर हुसैन के साथ जुड़ा था। उन्हें कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। 1992 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

एक इंटरव्यू में आशा ने खुद बताया था की लंबे समय तक उनका एक ब्वॉयफ्रेंड रहा था और ये ब्वॉयफ्रेंड कोई और नहीं निर्देशक नासिर हुसैन थे। 

नासिर पहले से ही शादीशुदा थे और आशा का कहना था की वह नहीं चाहती थीं की किसी का घर टूटे। इसलिए उन्होंने कभी भी शादी ना करने का फैसला लिया और आज तक वो कुवारी है। 

बॉलीवुड में आशा ने अपनी एक अलग पहचान बनाई है। बता दें कि उन्हें कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। 1992 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

आशा पारेख ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत चाइल्ड आर्टिस्‍ट के तौर पर फिल्म ‘आसमान’ से साल 1952 से की थी। जिसके बाद उनकी पहचान सुपरहिट फिल्म ‘दिल देके देखो’ साइन की थी। यू तो आशा के लाखों फैंस रहे है लेकिन आशा जिनकी फैन थी वो थे वैजयंती माला और दिलीप कुमार वह सबसे बड़ी फैन हैं। 

बॉलीवुड में आशा ने कई सुपरहिट फिल्मों की सौगात दी। जिनमे शामिल है  'जब प्यार किसी से होता है', 'घराना', 'फिर वही दिल लाया हूं', 'मेरी सूरत तेरी आंखें', 'भरोसा', 'मेरे सनम', 'तीसरी मंजिल', 'लव इन टोक्यो', 'दो बदन', 'आये दिन बहार के', 'उपकार', 'शिकार', 'साजन', 'आया सावन झूम के', 'पगला कहीं का', 'कटी पतंग', 'आन मिलो सजना', 'मेरा गांव मेरा देश', 'कारवां', 'समाधि', 'जख्मी', 'मैं तुलसी तेरे आंगन की'।