बर्थडे स्पेशल- अपने ज़माने की 'लेडी अमिताभ' थीं श्रीदेवी !

1 years ago

श्रीदेवी, बॉलीवुड का वो नाम रही हैं। जिन्होंने हिंदी सिनेमा को बहुत कुछ दिया है। कहा जाता है कि श्रीदेवी लेडी अमिताभ कहीं जाती थीं। शायद यही वजह है कि श्रीदेवी का स्टारडम 80 और 90 के दशक में लोगों के सिर चढ़कर बोलता था। श्रीदेवी की झलक पाने को फैंस बेकरार रहते थे। क्योंकि खूबसूरती, डांस और अभिनय ये सब उस दौर में हिरोइन्स को टक्कर देता था। श्रीदेवी आज 54 साल की हो गईं हैं। लेकिन ये देखकर बिल्कुल नहीं लगता वो उम्र के इस पड़ाव पर हैं।

श्रीदेवी ने महज चार साल की उम्र में एक तमिल फिल्म में अभिनय किया था। तमिल फिल्म 'थुनैवन' में चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर उन्होंने काम किया। साल 1976 तक श्रीदेवी ने कई साउथ इंडियन फिल्मों में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया। नन्ही श्रीदेवी को मलयालम फिल्म 'मूवी पूमबत्ता' के लिए केरला स्टेट फिल्म अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था।

श्रीदेवी ने अपने तीन दशक लंबे करियर में लगभग 200 फिल्मों में काम किया। इनमें 63 हिंदी, 62 तेलुगु, 58 तमिल और 21 मलयालम फिल्में शामिल हैं। हिंदी फिल्मों में बतौर एक्ट्रेस श्रीदेवी ने अपने करियर की शुरुआत साल 1979 में आई फिल्म 'सोलहवां सावन' से की थी। इस फिल्म को दर्शकों ने पसंद नहीं किया। श्रीदेवी वापस साउथ इंडियन फिल्मों की ओर लौट गईं।

साल 1983 में श्रीदेवी ने एक बार फिर फिल्म 'हिम्मतवाला' के जरिए बॉलीवुड में कदम रखा और फिर यहीं की होकर रह गईं। हिम्मतवाला में जितेंद्र और श्रीदेवी की जोड़ी को लोगों ने इतना पसंद किया कि कई दिनों तक लोगों के सिर इस फिल्म का भूत सवार रहा। 1976 से 1982 के बीच श्रीदेवी ने कई सारी तमिल तेलुगू फिल्में की और रजनीकांत, कमल हसन जैसे सुपरस्टार्स के साथ बतौर लीड एक्ट्रेस काम किया। इन सबके अलावा हिम्मतवाला ने वाकई उन्हें हिम्मत दे दी।

1983 में फिल्म सदमा में श्रीदेवी कमल हासन के साथ नजर आई।  इस फिल्म में उनकी एक्टिंग देख सभी दंग रह गए और उन्हें कई अवॉर्ड्स में नोमिनेट भी किया गया। 1986 में आई फिल्म नगीना ने श्रीदेवी को सुपरस्टार से भी ऊपर बना दिया। जिसमे श्रीदेवी ने एक इच्छाधारी नागिन की भूमिका अदा की थी। श्रीदेवी की जोड़ी अनिल कपूर, जितेंद्र और ऋषि कपूर जैसे स्टार्स के साथ जमी। साल 1983 से 1988 के बीच श्रीदेवी और जितेन्द्र ने एक साथ 16 फिल्मों में काम किया जिसमें से 11 हिट फिल्में थी।

1987 में आई फिल्म मिस्टर इंडिया में श्रीदेवी एक जर्नलिस्ट के रोल में दिखी।  जोकि एक उनका आइकॉनिक रोल माना जाता है।  फिल्म साइंटिफिक थ्रिलर स्टोरी पर बेस्ड थी।  इस फिल्म में उनके अपोजिट अनिल कपूर नज़र आये थे। फिल्म के गाने आज भी लोगों की जुबान पर रहते हैं। 1989 में आई फिल्म चालबाज में श्रीदेवी ने डबल रोल प्ले किया। फिल्म के गाने ना जाने कहां से आई है के शूटिंग के दौरान उन्हें 103 डिग्री का तेज बुखार था लेकिन फिर भी उन्होंने शूटिंग की और फिर इस फिल्म के लिए लिए उन्हें फिल्म फेयर बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला।

फिल्म में सनी देऑल और रजनीकांत भी थे लेकिन श्रीदेवी दोनों पर ही भारी नजर आईं। यशराज फिल्मस के साथ श्रीदेवी लम्हे और चांदनी जैसी रोमांटिक फिल्में की। जिनमें श्रीदेवी की खूबसूरती को पर्दे पर बड़ी ही बखूबी से उतारा गया। बहुत कम लोग जानते हैं कि जब श्रीदेवी हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में आई तो उन्हें हिंदी बोलनी नहीं आती थी। उन दिनों श्रीदेवी की डबिंग एक्ट्रेस नाज किया करती थीं और श्री देवी के लिए लेंजेंड्री एक्ट्रेस रेखा ने भी 1986 में आई फिल्म 'आखिरी रास्ता' में डबिंग की थी।

लेकिन पहली बार हिंदी में श्रीदेवी ने अपनी फिल्म 'चांदनी' में डबिंग की थी। अमिताभ बच्चन के साथ भी श्रीदेवी ने जोड़ी जमाई। खुदा गवाह में दोनों की कैमिस्ट्री देखने लायक थी। 1993 की फिल्म 'बाजीगर' में श्रीदेवी डबल रोल करने वाली थीं लेकिन बाद में उन्होंने इस रोल के लिए मना कर दिया क्योंकि उन्हें फिल्म में शाहरुख के हाथों मरना था। फिल्म 'बेटा' की ऑरिजिनल चॉइस पहले श्रीदेवी थी लेकिन उन्होंने वो रोल नहीं किया क्योंकि पहले से ही श्रीदेवी अनिल कपूर के साथ कई सारी फिल्में कर रहीं थी और फिर ये रोल श्रीदेवी की 90 के दशक में राइवल रहीं माधुरी दीक्षिते के पास चला गया।

कहा जाता है कि 'नगीना' के लिए पहले जया प्रदा और 'चांदनी' के लिए रेखा को किया गया था। लेकिन ये रोल श्रीदेवी के पास आया और उन्हें इन फिल्मों ने सुपरस्टार बनाया। श्रीदेवी अपनी फिल्मों में गाना भी गा चुकी हैं। वहीं श्रीदेवी की लाड़ला और जुदाई भी उनकी अहम फिल्मों में से एक हैं।

जुदाई के बाद श्रीदेवी ने फिल्मों से ब्रेक लिया क्योंकि उन्होंने बोनी कपूर से शादी कर ली थी। इस बीच में श्रीदेवी ने कई टीवी शोज में भी काम किया। वहीं साल 2012 में गौरी शिंदे की इंग्लिश विंग्लिश से उन्होंने धमाकेदार वापसी की। हाल ही में वो फिल्म मॉम में नजर आई थी। 2013 में श्रीदेवी को पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया। अब ये एक सफल अभिनेत्री की पहचान नहीं तो क्या है। फिलहाल वो खुशी कपूर और जाह्नवी कपूर की मां है। 

Related Posts