पाकिस्तान से इन सितारों का गहरा संबंध है

1 years ago

भारत और पाकिस्तान के बीच अक्सर युद्ध वाला माहौल बना रहता है। उड़ी हमले के बाद पाकिस्तानी कलाकारों को बॉलीवुड में काम करने से रोक दिया गया है लेकिन आपको जानकर ताज्जुब होगा कि बॉलीवुड में गुजरे दौर के ज्यादातर सितारें पाकिस्तान में पैदा हुए। विभाजन के बाद उनका परिवार भारत आ गया और उन्होंने भारत को अपना देश बना लिया।  राज कपूर, सुनील दत्त, मनोज कुमार, देवानंद, कादर खान इन सबका जन्म पाकिस्तान में ही हुआ था ।

साधना

‘वो कौन थी’, ‘मेरा साया’ आरजू, एक फूल दो माली और ‘वक्त’ जैसी फिल्मों में काम कर चुकी साधना का जन्म भी कराची में हुआ था। वो 2 सितंबर 1941 के दिन पैदा हुई थीं। बंटवारे के बाद साधना का परिवार भारत आ गया था। 

 

विनोद खन्ना 

विनोद खन्ना साहब का जन्म भी पेशावर में हुआ था। 6 अक्तूबर 1946 के दिन वो वहां जन्मे थे। ‘हाथ की सफाई’, ‘हेरा-फेरी’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’ और ‘कुर्बानी’ जैसी फिल्म में काम कर चुके विनोद साहब हाल ही हमें अलविदा कह गए। मुंबई में 27 अप्रैल 2017 के दिन वो चल बसे। अपने अंतिम दिनों में उन्होंने पाकिस्तान जाकर अपना पुश्तैनी घर देखने की इच्छा भी जताई थी। पर अफसोस की वो जा ना सके।

दिलीप कुमार 

मोहम्मद यूसुफ़ ख़ान उर्फ दिलीप कुमार का  जन्म 11 दिसंबर 1922 को पेशावर में हुआ था।  साल 1930 में 12 सदस्यों वाला इनका परिवार पेशावर से सपनों की नगरी मुंबई में शिफ्ट हो गया। दिलीप कुमार को हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में काम देविका रानी के जरिए मिला। दिलीप कुमार फिल्म इंडस्ट्री के दिग्गज अभिनेताओं में से एक रहेष दिलीप कुमार का पाकिस्तान में क्रेज काफी ज्यादा था । वो जब भी पाकिस्तान गए लोग उनकी एक झलक पाते के लिए बेताब हो जाते थे...इसी वजह से हिंदी फिल्मों के महान अभिनेता दिलीप कुमार के पाकिस्तान के घर को राष्ट्रीय विरासत घोषित किया गया और उन्हें निशान ए इम्तियाज से नवाजा गया। दिलीप कुमार ने साल 1988 में पाकिस्तान गए थे। तब वो अपने पुश्तैनी घर भी गए थे और वहां जाकर उन्होंने इस घर की मिट्टी को चूमा था। दिलीप कुमार अब 94 वर्ष के हो चुके हैं और बीमार चल रहे हैं 

 

मनोज कुमार 

मनोज कुमार यानी हरिकिशन गिरी गोस्वामी ने हिंदी सिनेमा की कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया। मनोज कुमार देशभक्ति फिल्में बनाने के लिए मशहूर रहे और भारत कुमार कहलाए। पाकिस्तान के एबटाबाद  में 24 जुलाई 1937 को मनोज कुमार का जन्म हुआ. भारत पाकिस्तान के बंटवारे के दौरान उनका परिवार पाकिस्तान को छोड़कर दिल्ली आ गया. उस समय मनोज कुमार की उम्र दस वर्ष थी और उनका परिवार किंग्स्वे कैंप दिल्ली में एक शरणार्थी के तौर पर रहा करता था.मनोज कुमार परिवार सहित दिल्ली में रह रहे थे और यहीं उनकी शिक्षा भी पूरी हुई. दिल्ली विश्वविद्यालय के ‘हिंदू कॉलेज’ से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद मनोज ने फिल्म इंडस्ट्री में जाने का मन बना लिया और वो मुंबई चले गए 

Related Posts