हॉलीवुड फिल्मों को छोड़ क्यों भारतीय फिल्में देख रहें हैं चीनी दर्शक ? जानिए

9 months ago

 

बॉलीवुड के सुल्तान सलमान खान अब चीन में दाहड़ने जा रहे है। यानी कि सलमान खान की फिल्म सुल्तान चीन में रिलीज होने वाली है। अली अब्बास जफर मानना है कि चीन भारतीय फिल्मों के लिए अच्छा मार्केट है। शायद इसीलिए वे अपने निर्देशन में बनी फिल्म सुल्तान 31 अगस्त को चीन में बड़े पैमाने पर रिलीज कर रहे हैं। सुल्तान के लिए यशराज फिल्म्स ने चीन की कंपनी ई स्टार से साझेदारी की है। जिसके बाद सलमान की ये फिल्म पूरे चीन में दिखाई जाएगी।

बताया जा रहा है कि चीन में सुल्तान के 40,000 शोज होंगे और ये फिल्म 11,000 स्क्रीन्स पर रिलीज की जाएगी। वहीं अली अब्बास जफर का कहना है कि हर बार जब फिल्म रिलीज होती है, भले ही वो पहले आपके देश में लोग देख चुके हों.. लेकिन जब वह नए ऑडियंस के सामने जाती है तो एक नया दृष्टिकोण सामने आता है। मैं काफी उत्साहित हूं। गौरतलब है कि बजरंगी भाईजान के साथ यह चीन में रिलीज होने वाली सलमान खान की दूसरी फिल्म है।

रणबीर कपूर स्टारर ‘संजू’ 300 करोड़ क्लब में शामिल हो चुकी है। फिल्म ने अब तक 323 करोड़ की कमाई कर ली है। फिल्म की सफलता से फॉक्स स्टार स्टूडियोज बेहद खुश है। स्टूडियो के सीईओ विजय सिंह ने हाल ही में एक इटर्वयू में बताया है कि चाइनीज डिस्ट्रीब्यूटर्स ने इस फिल्म में बड़ी दिलचस्पी दिखाई है। मुमकिन है कि इस साल के अंत तक इसे चीन में रिलीज किया जाएगा। 

संजू’ में बाप-बेटे के रिश्ते की यूनिवर्सल अपील है। लिहाजा वहां के कई डिस्ट्रीब्यूटर्स इस फिल्म में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। ‘संजू’ के डिजिटल राइट्स हॉट स्टार और नेटफ्लिक्स दोनों को ही दिए गए हैं। जल्द ही दोनों अपने-अपने प्लेटफॉर्म पर इसकी स्ट्रीमिंग डेट अनाउंस करेंगे। 

दरअसल, चीनी दर्शकों को इमोशनल फिल्में बहुत पसंद आती हैं। ‘दंगल’ में बाप और बेटियों का इमोशनल रिश्ता था और इस फिल्म ने चीन में इतिहास रचा था।  दंगल ने चीन में 1300 करोड़ की कमाई की। पिछले दो सालों में भारत में बनने वाली कई फिल्में चीन में रिलीज हुई। टॉयलेट एक प्रेम कथा, हिंदी मीडियम , बाहुबली 2 समेत कई फिल्में चीन में खूब पसंद की गई। 

इनीज एकेडेमी ऑफ सोशल साइंस के अस्सिटेंट रिसर्च फैलो के मुताबिक, चीन अमेरिका के बीच व्यापारिक तनातनी और भारतीय फिल्मों को लेकर चीनी लोगों के खास लगाव के चलते भारत के पास चीन में अपने मार्केट को ग्रो करने का सुनहरा मौका है। भारत के प्रोड्यूसर्स को अमेरिका और चीन के बीच संकट का फायदा उठाना चाहिए। चीन के बड़े बाज़ार और इस देश में भारतीय फिल्मों की सफलता को देखते हुए भारत चीनी मार्केट के लिए खास रणनीति बना सकता है। 

भारत को-प्रोडक्शन जैसी तकनीकों के सहारे चीन के मार्केट में अपनी पैठ भी बना सकता है। गौरतलब है कि पिछले तीन सालों में चीन में रिलीज़ हुई आठ हिंदी फिल्मों का कारोबार महज 2784 करोड़ है जो दंगल की कमाई से कई गुना पीछे है। आमिर खान की ‘दंगल’ चीन में 1300 करोड़ कमाकर सबसे लोकप्रिय हिंदी फिल्म के तौर पर शुमार हुई है।