single-post

Death Anniversary Spl - बॉलीवुड की मर्लिन मुनरो कहलाती थीं परवीन बाबी, भूख से हुई थी उनकी मौत !

Jan. 19, 2019, 6:55 p.m.

नीतू कुमार - 70 और 80 के दशक की स्टाइल आइकॉन कहलाती थी परवीन बाबी। टाइम मैगजीन के कवर पर छपने वाली पहली इंडियन स्टार थी। बॉलीवुड में हीरोइन की इमेज चेंज करने वाली बोल्ड एक्ट्रेस मानी जाती थीं । जब परवीन बॉबी बॉलीवुड में आई तो सीधी साधी भारतीय नारी का रोल से बंधी हीरोइन की इमेज बदल गई। 20 जनवरी को परवीन बाबी की पुण्यतिथि होती है। 

बॉलीवुड में परवीन के आते ही हिन्दी फिल्मों की हीरोइन बिंदास और फैशनेबल हो गई। परवीन बॉबी का लुक, हेयर स्टाइल ड्रेसिंग सेंस कुछ ऐसा था कि वो आज के दौर में भी आउटडेटेड नहीं कहा जाता सकता । फिल्मी परदे पर परवीन जितनी मॉर्डन और वेस्टर्न थी रियल लाइफ में भी वो वैसी ही थी महेश भट्ट के मुताबिक उनकी तुलना मर्लिन मुनरो से की जाती थी।

सिगरेट, शराब, शॉट्स ड्रेसेज और लेट नाइट पार्टीज उनके शौक थे। उस दौर में परवीन खुलेआम लिव इन रिलेशन में रहती थी। 

बॉलीवुड में उनके कई अफेयर्स हुए और गौर करने वाली ये बात थी हर बार उनका झुकाव शादी शुदा मर्दो की तरफ रहा। शादीशुदा लोगों की ओर झुकाव रखने की वजह से परवीन को इंडस्ट्री में अलग नजरों से देखा जाता था। 

शायद यहीं वजह भी है कि जिस प्यार की तलाश परवीन को थी वो उन्हें कभी नसीब नहीं हुआ। उनका प्यार हमेशा विवादों में रहा। उनकी लवलाइफ विवाद में रही।

 परवीन बाबी का रिश्ता महेश भट्ट, कबीर बेदी और डैनी से रहा। लेकिन इन तीनों के साथ उनके रिश्ते को कोई मंजिल नहीं मिली। हर रिश्ते के बाद परवीन ने खुद को तन्हा और ठगा हुआ पाया।

गुजरात के जूनागढ़ में 4 अप्रैल 1949 को हुआ था परवीन का जन्म। पापा वली मोहम्मद बाबी एडमिनिस्ट्रेटर थे। शादी के 14 साल बाद उनके मम्मी पापा को परवीन के रूप में इकलौती औलाद नसीब हुई थी। परवीन जब 7 साल की थी उनके पापा गुजर गए। मां भी परवीन को तन्हा छोड़कर गुजर गई। ऐसे में परवीन अकेली पड़ गई थी।

22 जनवरी 2005 को अचानक परवीन के अपॉर्टमेंट में पुलिस पहुंची। सोसाइटी के प्रेसिंडेट में पुलिस को फोन करके बताय़ा कि चार दिनों से परवीन के घर का दरवाजा तक नहीं खुला । दूध और अखबार भी किसी ने नही उठाया। पुलिस घर के अंदर पहुंची तो परवीन बिस्तर पर पड़ी थी। उनकी मौत हो चुकी थी। 

पोस्टमार्टम से पता चला कि उनकी मौत तो दो दिन पहले ही हो गई थी। डायबिटीज और गैंगरीन से पीड़ित थी परवीन लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि परवीन की मौत डायबिटीज से नहीं भूख से हुई थी। परवीन बॉबी के पेट में दवा की बस दो गोलियां पाई गई। कभी बॉलीवुड की क्वीन रही परवीन भूख से मर गई।

 परवीन अपनी बीमारी से इस कदर पीड़ित थी सालों से उनके घर में कोई नौकर नहीं था और जब वो बीमार हुई तो भूख से तड़प कर मर गई। परवीन की बॉडी को क्लेम करने उनके दूर के रिश्तेदार पहुंचे। जीते जी परवीन को किसी ने नहीं पूछा लेकिन मौत के बाद कई रिश्तेदार और दोस्त सामने आए। उस वक्त परवीन के अंतिम संस्कार को लेकर भी सवाल उठे।

 परवीन ने 1983 में हिंदू धर्म अपना लिया था लेकिन रिश्तेदारों ने कहा कि परवीन मुसलमान परिवार में पैदा हुई थी इसलिए उन्हें दफनाया जाना चाहिए। परवीन के अंतिम संस्कार पर बॉलीवुड नहीं जुटा लेकिन वो तीन लोग जरुर आए जिनके कभी परवीन से रिश्ते थे। महेश भट्ट, कबीर बेदी और डैनी परवीन को आखिरी बार देखने जरूर आए तीनों ने परवीन के जनाने को कांधा दिया , उन्हें मिट्टी दी और हमेशा के लिए अलविदा कहा।