46 साल के लिए प्रभु देवा, बैकग्राउंड डांसर से बने भारत के 'माइकल जैकसन'

3 weeks ago


भारत के 'माइकल जैकसन' के नाम से मशहूर साउथ के सुपरस्टार और मशहूर कोरियोग्राफर प्रभु देवा आज अपना 46वां जन्मदिन मना रहे हैं। प्रभु देव का जन्म मयसूर, कर्णाटक में हुआ था वे अल्वार्पेट, चेन्नई, तमिल नाडू में पले बड़े थे। प्रभु ने अपनी करियर के दौरान तेलुगू, तमिल, हिन्दी और कन्नड़ फिल्मों में काम किया, लेकिन इनको इनकी एक्टिंग से ज्यादा डांसिंग स्किल से पहचान मिली।
1989 में एक तमिल फिल्म में प्रभु देवा ने बतौर बैकग्राउंड डांसर काम किया था, लेकिन आज प्रभुदेवा के डांस की दुनिया दीवानी है। प्रभु देवा का असली नाम 'शंकुपानी' था। लेकिन फिल्मों में कुछ अलग नाम रखने की चाह ने उन्हें नाम बदलने पर मजबूर किया और शंकुपानी ने अपना नाम बदलकर प्रभु देवा रख लिया। 

 प्रभु देवा को हालांकि भारत का माइकल जैक्सन कहा जाता है लेकिन आप शायद ये बात ना जानते हो कि प्रभु देवा 'भरतनाट्यम' में एक मशहूर डांसर हैं।  प्रभु देवा के पिता मुगुर सुंदर भी कोरियोग्राफर थे। जिन्हें देख प्रभु देवा को डांस सीखने की प्रेरणा मिली। प्रभु देवा को बचपन से ही नाचना पसंद था।
प्रभु देवा  की निजी  जिंदगी की बात  की जाए तो प्रभु देवा ने रामलला से शादी की, जिसने अपना नाम बदलकर लता रखा. इस कपल के तीन बच्चे भी हैं, लेकिन उनके सबसे बडे बेटी की मौत साल 2008 में कैंसर के चलते हो गई। प्रभु देवा ने अपनी डांस अकादमी शुरू की जो सिंगापुर में है। प्रभु देवा ने डांस अकादमी को 2009 में स्थापित किया था। 


फिलहाल वह फिल्म दबंग 3 की शूटिंग करने के लिए सलमान खान के साथ इंदौर में हैं। प्रभु ने डायरेक्टर के तौर पर अपनी पहली हिंदी फिल्म 'वॉन्टेड' की थी।  फिल्म में सलमान खान मुख्य भूमिका में थे। इस फिल्म में दोनों ने साथ में डांस भी किया था. अब सलमान और प्रभुदेवा फिर एक साथ आने वाले हैं। फिल्म दबंग 3 की को प्रभुदेवा ही डायरेक्ट कर रहे हैं।
इसके अलावा प्रभु देवा ने बॉलीवुड में अक्षय कुमार की फिल्म 'राउडी राठौड़', 'सिंह इज ब्लिंग', अजय देवगन की 'एक्शन जैक्शन' , शाहिद कपूर की 'आर राजकुमार' डायरेक्ट कर चुके हैं। वहीं साउथ की फिल्मों की बात करें तो प्रभु देवा ने "कदलन" (1994), "मिनसारा कानवु" (1997) और "वीआईपी" (1997) सहित कई दक्षिणी भाषा की सफल फिल्मों में काम किया है। इसके अलावा उनकी कॉमेडी फिल्मों जैसे "कहतला काठला" (1998) और पारिवारिक नाटक "वनथाई पोला" (2000) में काम किया था।