single-post

शिवसैनिकों ने मणिकर्णिका देखने आए लोगों को पीटा, कहा - जाकर ठाकरे फिल्म देखो !

Jan. 25, 2019, 6:13 p.m.

सिनेमाघरों में आज एक साथ दो फिल्में रिलीज हुई है। कंगना रनौत की मणिकर्णिका और बाला साहब की बायोपिक ठाकरे। दोनों ही फिल्मों के बीच जबरदस्त टक्कर है। वहीं इसी बीच खबर है कि मुंबई में शिवसैनिक मणिकर्णिका देखने जा रहे लोगों के साथ मारपीट कर रहे हैं। मुंबई में वाशी के आईनॉक्स सिनेमा हॉल के बाहर शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने आज हंगामा किया। सुबह के शो को भी रोक दिया गया। कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि जब बाकी दूसरी फिल्मों के पोस्टर लगाए गए तो 'ठाकरे' के पोस्टर क्यों नहीं लगाए? इसके साथ ही शिवसेना कार्यकर्ताओं ने 'मणिकर्णिका' देखने आए लोगों के साथ मारपीट की और उन्हें भगा दिया।

 शिवसैनिको का आरोप है की जानबूझकर सिनेमा मालिक 'मणिकर्णिका' को ज्यादा तवज्जो दे रहे हैं। महाराष्ट्र के कई हिस्सों में बाला साहेब ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ का फ्री शो दिखाया जा रहा है। दहिसर के एक सिनेमाघर में सुबह 10 बजे और शाम 4 बजे के शो को फ्री कर दिया गया। वहीं वसई में भी सुबह 8 बजे का शो फ्री में दिखाने के लिए सिनेमा हॉल के बाहर प्रदर्शन किया गया। इससे पहले फिल्म 'ठाकरे' को सुबह 4 बजे देखने मुंबई के एक सिनेमाघरों में पहुंचे लोग वहां खुद 'बाल ठाकरे' को देख चौंक गए। सिनेमाघरों की एक बड़ी चेन ने मुंबई में ठाकरे फिल्म को लेकर सिनेथॉन रखा है। ठाकरे फिल्म को शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रोड्यूस किया है। पूरे महाराष्ट्र में ये फिल्म बहुत बड़े पैमाने पर रिलीज की गई है। शिवसैनिक आम लोगों को भी फिल्म देखने के लिए कह रहे हैं। 

 मणिकर्णिका झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के जीवन पर आधारित है। यह फिल्म इतिहास के पन्नों को सामने रखती है। रानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों का अकेले सामना किया था और जीवन के अंत तक युद्ध में डटी रही थीं। उन्होंने अपनी सूझबूझ और बहादुरी से अंग्रेजों को नाकों चने चबवा दिये थे। वहीं ठाकरे बाला साहब के जीवन की कहानी है। फिल्म में बाला साहब का किरदार नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने किया है। नवाज अपनी नेचुअल एक्टिंग के लिए जाने जाते हैं और कहा जा रहा है कि उन्होंने बाला साहब के किरदार में बहुत प्रभावित किया है।