सुप्रीम कोर्ट का EC को निर्देश कहा, फिल्म देखकर बताए रोक लगनी चाहिए या नहीं

1 week ago



प्रधानमंत्री  मोदी के जीवन पर बनी फिल्म अब तक रिलीज नहीं हो पाई है। चुनाव आयोग की रोक की वजह से पहले ये फिल्म सिनेमाघरों में नहीं आ पाई है। फिल्म के मेकर्स फिल्म पर लगी रोक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जा चुके हैं। फिल्म पर लगी रोक को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से कहा है कि वो फिल्म देखकर फैसला करें कि फिल्म को बैन किया जाना है या नहीं । विवेक ओवरॉय इस फिल्म में मोदी की भूमिका में हैं। कोर्ट ने 22 अप्रैल तक चुनाव आयोग से मामले में सीलबंद लिफाफे में अपना विचार देने को कहा है। चुनाव आयोग द्वारा फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने के फैसले के खिलाफ निर्माताओं ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। 




फिल्म की ओर से दिए गए इस दलील के बाद कोर्ट ने आयोग को कहा है कि फिल्म देखकर वह अपना पक्ष सीलबंद कवर में कोर्ट में जमा करवाएं। बता दें, फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जीवनी पर बनी है। चुनाव के दौरान फिल्‍म की रिलीज को लेकर विपक्षी दलों ने सुप्रीम कोर्ट और चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया था। यह फिल्‍म पहले 5 अप्रैल और बाद में 11 अप्रैल को रिलीज होने वाली थी, लेकिन विपक्षी दलों द्वारा चुनाव आयोग में शिकायत के बाद फिल्‍म की रिलीज डेट टल गई।  




बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक की रिलीज में हो रही देरी को लेकर अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने अपनी नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि कुछ शक्तिशाली लोग फिल्म की रिलीज को रोकने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कुछ बहुत शक्तिशाली लोग हैं, जिन्होंने अपने वकीलों के जरिए अदालतों का दरवाजा खटखटाया है। वे हमें कुछ समय के लिए रोक सकते हैं, लेकिन वे फिल्म को रिलीज करने से हमें रोक नहीं पाएंगे।

विवेक ने इस फिल्म के लिए काफी मेहनत की है। महज 39 दिनों में उन्होंने फिल्म की शूटिंग पूरी की है।