Birthday Spl - प्रभास की जिंदगी से जुड़े कुछ अनसुने राज जानिए

1 years ago

 

प्रभास आज सिर्फ साउथ फिल्म इंडस्ट्री या बॉलीवुड में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में जाना माना नाम बन चुके हैं। और ये सब हुआ है बाहुबली की बदौलत। जबकि इससे पहले तक प्रभास तेलेगू फिल्म इंडस्ट्री के जाने माने और चहीते चेहरे थे। ऐसा नहीं है कि प्रभास का फिल्मों में आना कोई इत्तेफाक था। हालांकि वो कभी हीरो बनना नहीं चाहते लेकिन किस्मत को तो यही मंजूर था।प्रभास का जन्म 23 अक्टूबर 1979 को चेन्नई में हुआ था। प्रभास के पिता लेट सूर्यानारायणा राजू भी फिल्म प्रोड्यूसर थे इसलिए कहीं न कहीं बचपन से ही प्रभास का नाता सिने जगत से जुड़ गया था। प्रभास के चाचा कृष्णम राजू भी काफी फेमस तेलेगू एक्टर हैं यानी ऐक्टिंग तो प्रभास के खून में ही है।

तीन भाई बहनों में सबसे छोटे प्रभास ने हैदराबाद के श्री चैतन्य जूनियर कॉलेज से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। प्रभास का तो सपना था कि वो बिजनेस मैन बनें लेकिन किस्मत तो उन्हें हीरो बनाना चाहती थी। बाहुबली बनाना चाहती थी। 2002 में प्रभास ने तेलेगू फिल्म ईश्वर से डेब्यू किय़ा। हालांकि उस वक्त तो उन्हें कोई खास मुकाम हासिल नहीं हुआ लेकिन उन्हें पहली सफलता मिली 2004 में आई फिल्म वर्षम से जिसमें उनके साथ एक्ट्रेस तृष्णा कृष्णन भी थीं। इसके बाद प्रभास ने चकरम, छत्रपति जैसी  फिल्मों में काम किया। छत्रपति में ही पहली बार प्रभास और एस एस राजामौली साथ आए थे। लेकिन उस वक्त प्रभास को अपनी फिल्म में लेना राजामौली के लिए आसान नहीं था। दरअसल राजामौली ने अब से 16 साल पहले अपनी पहली फ़िल्म - स्टूडेंट नंबर-1 के लिए भी प्रभास को अप्रोच किया था। लेकिन तब प्रभास ने राजामौली की ये कहानी सुनकर भी उसे रिजेक्ट कर दिया था। बाद ये फ़िल्म सुपर डुपर हिट हुई, तो प्रभास को अफसोस हुआ ।

इसके चार साल के बाद प्रभास ने राजमौली की - छत्रपति साईन की। ये तेलुगू फ़िल्म ब्लॉकबस्टर हुई.और उसे कन्नड़ा, तमिल और बंगाली में डब किया गया।बस फिर क्या था, अब तो प्रभास हिट हो ही चुके थे। इसके बाद उन्होंने मुन्ना, बिल्ला, एक निरंजन जैसी कई फिल्मों में काम किया। लेकिन उन्हें बड़ी कामयाबी हासिल हुई 2010 में आई अपनी फिल्म डार्लिंग से। जिसके लिए उन्हें पहली बार सिनेमा अवार्ड़ फॉर बेस्ट एक्टर जूरी का अवार्ड मिला। एंबियंस- अगर अवार्ड का मिल जाए तो वरना फोटो लगा दें । प्रभास की और फिल्में डार्लिंग, मिस्टर परफेक्ट, रेबेल, मिर्ची भी अच्छी चलीं। और साथ ही अनुष्का शेट्टी के साथ उनकी ऑन स्क्रीन जोड़ी भी।प्रभास ने काजल अग्रवाल, असिन, तृषा, इलियाना , तमन्ना जैसी कई हीरोइनों के साथ काम किया जिन्होंने बॉलीवुड में हाथ आजमाय़ा और आज भा कर रही हैं लेकिन अब तक प्रभास ने खुद बॉलीवुड में कदम रखने की नहीं सोची। प्रभास का पहला और इकलौता बॉलीवुड अपीयरेंस था प्रभु देवा की फिल्म ऐक्शन जैक्सन के आईटम सॉन्ग सूर्या अस्त में जहां वो सोनाक्षी सिन्हा के साथ कुछ सेकेंड्स के लिए डांस करते दिखे और आखिर कार 2015 में रिलीज हुई प्रभास के करियर की सबसे बड़ी फिल्म बाहुबली द बिगनिंग।

दमदार कद काठी वाले इस हैंडसम हीरो का जादू हर तरफ छा गया था और बची कुची कसर बाहूबली 2 ने पूरी कर दी। अब प्रभास तैयार हैं अपनी एक तेलेगू फिल्म साहो के साथ जिसमें वो नजर आएंगे । तेलेगू में तो प्रभास हिट हैं ही। बस इंतेजार है उनके ऑफिशियल बॉलीवुड लॉन्च का। हांलाकि साहो के लिए - प्रभास ने हिंदी सीखी है... और साहो की शूटिंग तेलुगू और हिंदी में साथ-साथ हो भी रही है। भले ही साहो में श्रद्धा - प्रभास की कोस्टार हों लेकिन बाहुबली स्टार की फेवरेट हिंदी एक्ट्रेस दीपिका पाडुकोण हैं। तो क्या पता आने वाले वक्त में कभी ये जोड़ी भी हमें देखने को मिल ही जाए

Related Posts