प्रिया के वायरल वीडियो पर हरियाणा शिक्षा विभाग का ऐतराज, कहा ऐसे वीडियो छात्रों को ना दिखाएं

11 months ago
 
प्रिया प्रकाश का वायरल वीडियो हिंदुस्तान में ही नहीं बल्कि पाकिस्तान में भी खूब देखा जा रहा है। पाकिस्तान के नौजवान भी प्रिया प्रकाश पर बुरी तरह से फिदा हैं। लेकिन जैसे जैसे प्रिया का वायरल वीविवाद बढ़ता ही जा रहा है। हरियाणा के फतेहाबाद शिक्षा विभाग ने फरमान जारी कर कहा है कि ऐसे वीडियो स्कूलों में बच्चों को ना दिखाया जाएं। शिक्षा विभाग का मानना है प्रिया के आंख मारने वाले वीडियो स्कूली बच्चों पर बुरा असर डाल रहे हैं। ऐसे वीडियो स्कूली बच्चों को बिगाड़ सकते हैं। हरियाणा के स्कूलों में प्रिया के वीडियो को बैन कर दिया गया है।

जिस गाने से प्रिया चंद घंटों में स्टार बन गईं अब उसी गाने के कारण हैदराबाद के कुछ युवाओं ने प्रिया प्रकाश और प्रोड्यूसर के खिलाफ धर्म विशेष की संवेदना आहत करने के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाया है। अब इस बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा गया अगर हम गाने में कुछ आपत्ति जनक पाते हैं तो इसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराएंगे।ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के एग्जीक्यूटिव कमेटी के मेंबर मौलान अतहर अली ने कहा कि अभी तक मैंने गाने को नहीं देखा है। अगर किसी गाने में 'पैगंबर' साहब के नाम का इस्तेमाल होता है तो यह उनका अपमान है और इससे दुनिया के सभी मुस्लिमों को ठेस पहुंचती है ।उन्होंने कहा कि आगे कार्रवाई के लिए हम अध्ययन करेंगे। उन्होंने कहा कि हम शिकायत दर्ज कराएंगे, क्योंकि पद्मावत रिलीज के समय ऐसा ही हुआ। उन्होंने कहा कि किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का किसी को अधिकार नहीं है। उधर मुंबई में रजा एकेडमी ने इस्लामिक विद्वानों के साथ एक बैठक बुलाई है और इस मलयालम गाने का कड़ा विरोध किया है। रजा एकेडमी ने निर्माताओं से फिल्म से इस गाने को तुरंत हटाने का आग्रह किया है। नहीं तो फिर पूरी दुनिया में विरोध करेंगे।  साथ ही एकेडमी ने मुस्लिमों से इस गाने को नहीं सुनने के लिए कहा है। एकेडमी का कहना है कि इस गाने में 'पैगंबर' साहब और उनकी पत्नी का अपमान किया गया है। एकेडमी ने कहा कि जल्द ही वे मुंबई पुलिस में इसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराएंगे और पीएमओ, गृह मंत्रालय और सीबीएफसी को पत्र लिखेंगे।