REVIEW : देखना है संस्‍पेस, थ्रिलर और करना है थोडा डर का सामना, तो जरूर देखें 'फोबिया'

2 years ago

नई दिल्‍ली : निर्देशक पवन कृपलानी की फिल्म 'फोबिया' हाल ही में रिलीज हुई है। इस फिल्म में एक्ट्रैस राधिका आप्टे अौर एक्टर सत्यदीप मिश्र मुख्य भूमिका में है। पवन हमेशा ही अपनी ऑडियंस को सरप्राइज देते रहते हैं। इस बार उन्होंने एक साइकोलॉजिकल -थ्रिलर 'फोबिया' बनायी है इससे पहले पवन कई थ्रिलर फिल्में बना चुके हैं जैसे 'रागिनी एमएमएस' और 'डर एट द माल'। कहानीफिल्म की कहानी मुंबई में रहने वाली महक यानी राधिका आप्टे जो एगोराफोबिया से पीड़ित है, उसके साथ एक रात को कुछ ऐसा हादसा हो जाता है कि वो खुद को एक कमरे में बंद कर लेती है। अलग-अलग समय में कई सारी चीजे एक साथ दिखाई देती हैं जिसे देखकर वो डरती रहती हैं, वो घर से निकलना भी बंद कर देती है। इस फोबिया के कारण उसका दोस्त शान यानी सत्यदीप मिश्र उसे एक नए अपार्टमैंट में शिफ्ट करता है लेकिन नए घर में भी कई सारी घटनाएं घटती रहती हैं जिसकी वजह से बहुत सारे उतार चढ़ाव सामने आते हैं, महक की हालत दिनो-दिन और बिगड़ती जाती है। आखिरी क्या है महक के फोबिया कि वजह और वह इससे बाहर निकल पाती है या नहीं? जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी। फिल्म की कहानी शुरूआत में साधारण सी लगती है लेकिन जैसे जैसे आगे बढ़ती है, फिल्‍म में कई ट्विस्ट और टर्न्स सरप्राईज करेंगे। निर्देशन फिल्म का निर्देशन वाकई में बहुत लाजवाब है हम यह कह सकते हैं कि किस प्रकार से निर्देशक ने एक घर के भीतर होने वाली कई घटनाओं को बहुत अच्‍छी तरीके से दर्शाया है। उन्‍होंने हर एक फ्रेम को पर्दे पर लाने के लिये बेजोड़ मेहनत की है। फिल्‍म में फ्लैशबैक-प्रेजेंट की घटनाओं को अच्छे से दिखाया है। इस थ्रिलर फिल्म में कहीं-कहीं आपको डर की अनुभूति भी होती है।एक्टिंग अभिनेत्री राधिका आप्टे ने एक बार फिर से साबित कर दिया है कि उनके भीतर एक बेहतरीन अदाकारा हैं। फिल्म की कहानी में कई ऐसे सीन आते हैं, जहां उनकी अदाकारी का ठहराव दिखाई पड़ता है। साथ ही अभिनेता सत्यदीप मिश्रा ने भी काफी अच्छा काम किया है।संगीत फिल्म का बैकग्राउंड काफी अच्छा है जो आपको बांध कर रखेगा। देखें या नहींअगर आप बेहतरीन अदाकारी, संस्‍पेस, थ्रिलर और थोड़ा डर का सामना करना है तो आपको फिल्‍म जरूर देखनी चाहिये।

Related Posts