single-post

'सांड की आंख' का फर्स्ट लुक रिलीज, तापसी-भूमि का दिखा जबरदस्त अंदाज

April 16, 2019, 10:43 a.m.

बॉलीवुड एक्ट्रेस तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर की फिल्म सांड की आंख लगातार सुर्खियों में बनी हुई है। ये फिल्म एक तरह से बायोपिक फिल्म है। फिल्म 'सांड की आंख' का फर्स्ट लुक रिलीज हो गया है। पोस्टर में दोनों स्टार बूढ़ी दादी का रोल में नजर आ रही हैं। 

फिल्म की कहानी शूटर दादी के नाम से मशहूर  प्रकाशी और चंद्रो तोमर पर आधारित है। दोनों देवरानी और जेठानी हैं। फिल्म के पोस्टर पर लिखी लाइनें बहुत जबर्दस्त हैं। इस पर लिखा है कि तन बुड्ढा होता है मन बुड्ढा नहीं होता। दूसरे पोस्टर पर लिखा है कि दोनों अब तक करीब 700 मेडल जीत चुकी हैं। फिल्म 'सांड की आंख' के दो पोस्टर र‍िलीज हुए हैं। इसके पहले कई तस्वीरें सामने आई थीं, लेकिन तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर का लुक पहली बार र‍िलीज किया गया है। फिल्म को द‍िवाली पर र‍िलीज किया जाएगा, इसका खुलासा पोस्टर में किया गया है।

आपको बता दें कि उम्र के 86 वसंत देख चुकी चंद्रो तोमर, यूपी के बागपत जिले के जोहरी गांव की रहने वाली हैं। चंद्रो तोमर के 6 बच्चे और 15 नाती-पोते हैं। इन्हीं में से एक पोती शैफाली को वे डॉ. राजपाल की शूटिंग एकडेमी में लेकर गईं। जहां तीन दिन तक उनकी पोती गन से निशाना लगाने की जद्दोजहद करती रही। यह देख चंद्रो ने उसके हाथ से गन लेकर लोड की और निशाना लगा दिया। सटीक निशाना लगा देखकर एकडेमी ट्रेनर ने उनसे कहा वह भी शूटिंग शुरू कर दें।

65 साल की उम्र में शूटिंग की प्रैक्टिस शुरू करने के बाद चंद्रो ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने 25 नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में हिस्सा लिया और सारे टूर्नामेंट जीते। शुरुआती दिनों में चंद्रो प्रैक्टिस करने के लिए रात का समय चुनती थीं। दिनभर के कामों के बाद रात में जब सब सो जाते तब वह पानी से भरा जग लेकन घंटों गन होल्डिंग की प्रैक्टिस किया करती थीं। प्रकाशी को रिवॉल्वर दादी और चंद्रो को शूटर दादी के नाम से जाना जाता है। इन दोनों से प्रेरित होकर कई और महिलाएं भी इनके राइफल क्लब में शामिल हो गई हैं।