बर्थडे स्पेशल- साधना ने फिल्में छोड़ी तो तस्वीरें खिंचवाना तक बंद कर दिया !

1 years ago

 

मशहूर एक्ट्रेस साधना का आज 77वां जन्मदिन है। साधना बेहतरीन एक बेहतरीन एक्ट्रेस होने के साथ- साथ स्टाइल आइक़ॉन भी थी। साधना ने 60S में बी टाउन पर राज किया। कई सुपर हिट फिल्में दी। साधना ही वो पहली हीरोइन थी जिनके लुक्स के साथ य़श चोपड़ा ने एक्सपेरिमेंट किया। फिल्म वक्त में साधना को बड़े स्टाइल और खूबसूरती के साथ उतारा गया साधना अब इस दुनिया में नहीं रही लेकिन आज भी उनके लाखों फैन्स हैं । साधना को आरजू, मेरा साया, वो कौन थी, राज कुमार , वक्त, हम दोनो, एक मुसाफिर एक हसीना और एक फूल दो माली जैसी फिल्मों के लिए आज भी याद किय़ा जाता है। 

साधना को बॉलीवुड की मिस्ट्री गर्ल भी कहा जाता था ।उन्होने डायरेक्टर राज खोसला के साथ मेरा साया , वो कौन थी और अनीता जैसी संस्पेन्स थ्रिलर फिल्मों में काम किय़ा और उन्हें मिस्ट्री गर्ल का नाम मिल गया। साधना का पूरा नाम साधना शिवदसानी था । 2 सितंबर 1942 को साधना का जन्म कराची के एक सिन्धी परिवार में हुआ था। साधना के पापा ने एक्ट्रेस साधना बोस के नाम पर अपनी बेटी का नाम रखा । बंटवारे के वक्त साधना का पूरा परिवार कराची से मुंबई आ गया था। साधना बॉलीवुड एक्ट्रेस बबीता की कजिन सिस्टर थी ।बबीता के पापा हरि शिवदासानी हिंदी फिल्मों में एक्टिंग किया करते थे। साधना और बबिता के पापा एक साथ कराची से मुंबई आए थे। 

साधना आठ साल की उम्र तक स्कूल नहीं गई ...अपने माता पिता की इकलौती औलाद थी साधना। मुंबई के वडाला इलाके के ऑक्सिलम से साधना ने पढ़ाई की और ग्रेजुएशन के लिए वो जय हिंद कॉलेज गई। साधना जब 15 साल की थी तब से उन्होंने डांस सिखना शुरू करदिया था और वो हीरोइन बनने के ख्वाब देखने लगी थी । साथना ने फिल्मों में शुरूआत की फिल्म श्री 420 में एक्ट्रा डांसर के तौर पर । साधना ने फिल्म के रमैया वस्ता वईया गाने में बतौर एक्ट्रा डांसर काम किया था। अपनी सहेलियों के साथ वो फिल्म भी देखने गई थी लेकिन फिल्म के एडिटिंग में उनके हिस्से का डांस काट दिय़ा गया था और ये देख साधना की आंखें डबडबा गई। हां बाद में उनकी किस्मत खुली और उन्होंने राज कपूर की हीरोइन केतौर पर फिल्म दुल्हा दुल्हन में काम किया 

साधना को पहला चांस प्रोड्यूसर शसधर मुखर्जी ने अपनी फिल्म लव इन शिमला में दिया था। इस फिल्म में साधना के हीरो थे जॉय़ मुखर्जी....उनकी पहली फिल्म हिट रही और साधना रातों रात स्टार बन गई। इसके बाद साधना को मिला देवानंद का साथ । फिल्म हम दोनों में दोनों की जोड़ी खूब पसंद की गई। ये फिल्म इतनी अच्छी बनी थी कि हाल ही में इसे कलर प्रिन्ट में रिलीज किया गया। फिल्म के गाने भी एवरग्रीन रहे। फिल्म मेरा साया में भी साधना का जलवा दिखा। इस फिल्म में वो डबल रोल में थी। मेरा साया में साधना की ब्यूटी के साथ साथ उनके एक्टिंग को भी सराहा गया। फिल्म वक्त से तो साधना का स्टारडम और बढ़ गया। इस फिल्म में साधना ने अपने लिए ड्रेस डिजाइनिंग खुद की.... वक्त में साधना की ब्यूटी कमाल की दिखी और फिल्म के लिए उन्हें बेस्ट एक्ट्रेस के तौर पर नॉमिनेट भी किया गया। 

सुनील दत्त के अलावा साधना की जोड़ी राजेन्द्र कुमार के साथ भी हिट रही। साधना और राजेन्द्र कुमार ने आरजू, मेरे मेहबूबऔर आप आए बहार आई जैसी फिल्मों में साथ काम किया। साधना की ये तीनों फिल्में सुपर हिट रही। साधना 60s के दौर की पहली ऐसी हीरोइन थी जिन्होंने फिल्म डायरेक्शन और फिल्म प्रोडक्शन में कदम रखा। साधना ने गीता मेरा नाम जैसी फिल्म डायरेक्ट की। 70 के दशक में साधना का जादू खत्म होने लगा था। उन्हें करैक्टर रोल्स ऑफर हो रहे थे लेकिन साधना बतौर हीरोइन ही फिल्मों से विदा लेना चाहती थी और उन्होंने कोई करैक्टर रोल्स नहीं किए । साधना जब फिल्मों से दूर हुई तो उन्होंने इंटरव्यूज और फोटो खिंचवाना छोड़ दिया। साधना चाहती थी कि उनके फैन्स उन्हें एक ब्यूटीफुल लेडी के तौर पर ही याद रखे और वाकई साधना का नाम आते ही लोगों के जेहम में घूमता वो ख़ूबसूरत चेहरा जिसकी निगाहें किसी को भी दीवाना बना सकती थीं। 

Related Posts