सोनाक्षी के मम्मी-पापा चुनावी मैदान में, मम्मी पूनम सिन्हा ने समाजवादी पार्टी ज्वाइन की !

1 week ago




भारतीय जनता पार्टी से कांग्रेस में शामिल हुए शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा ने समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया है। सोनाक्षी सिन्हा भी अपनी मम्मी के इस कदम से काफी खुश हैं। पूनम सिन्हा ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव से मुलाकत की और औपचारिक रुप से पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। कहा जा रहा है कि सोनाक्षी की मम्मी लखनऊ से चुनाव लड़ेंगी। 



दरअसल, समाजवादी पार्टी लखनऊ सीट से किसी ऐसे चेहरे को मैदान में उतारने की तैयारी में थी, जो राजनाथ सिंह को टक्कर देता दिखे। पिछले दिनों शत्रुघ्न सिन्हा की सपा मुखिया अखिलेश यादव से मुलाक़ात भी हुई थी। इस मुलाकात के दौरान पूनम सिन्हा को लखनऊ से टिकट देने की बात तय हुई थी. लेकिन उनके नाम की घोषणा से पहले समाजवादी पार्टी चाहती थी कि पहले शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस में शामिल हो जाएं, ताकि लखनऊ सीट से विपक्ष का एक साझा उम्मीदवार मैदान में हो।




गठबंधन और बीजेपी के साथ लखनऊ सीट से कांग्रेस भी अपनी कमर कसने को तैयार है। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस राजनाथ सिंह के खिलाफ जितिन प्रसाद को टिकट दे सकती है। बता दें कि नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 18 अप्रैल है, जबकि वोटिंग 6 मई को होगी। सपा ने अब तक वहां से अपने उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है। यही वजह है कि सबकी निगाहें अब लखनऊ पर टिक गई हैं। अगर सोनाक्षी की मम्मी को लखनऊ से टिकट मिलता हैं तो उनके मम्मी पापा दोनों ही चुनावी मैदान में उतरेंगे। शत्रुघ्न सिन्हा पहले ही बीजेपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। 






शत्रुघ्न सिन्हा बिहार की पटना साहिब सीट का 10 साल तक प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। शत्रुघ्न सिन्हा पिछले कुछ सालों में हाशिए पर चले गए थे। पार्टी के खिलाफ वो लगातार बयानबाजी भी कर रहे थे। ऐसे में बीजेपी में उनकी आला नेताओं से बन नहीं रही थी। अब  शत्रुघ्न सिन्हा पटना साहिब से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। 



शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी और बॉलीवुड का नामी एक्ट्रेस सोनाक्षी सिन्हा ने अपने पापा के भाजपा छोड़ने और कांग्रेस में शामिल होने पर ये कहा कि ये उनके पापा की पसंद है।  उन्हे लगता है कि अगर आप कहीं खुश नहीं हैं तो आपको बदलाव करना होगा और उन्होंने भी वही किया। मुझे उम्मीद है कि कांग्रेस के साथ नए जुड़ाव के बाद वह और  ज्यादा अच्छा काम कर पाएं और सोनाक्षी  ने कहा कि,'' जेपी नारायण जी, अटल जी और आडवाणी जी के समय से मेरे पापा पार्टी में काम कर रहे है इसलिए  मेरे पिता का सम्मान पार्टी में होना चाहिए। मुझे लगता है कि पार्टी उन्हें वो सम्मान नहीं मिल रहा था जो मिलना चाहिए था। मुझे लगता है कि उन्हें ये कदम बहुत पहले ही लेना चाहिए था। उन्होंने ये फैसला लेने में काफी देर कर दी। ''