अनुच्छेद 370: सरकार के फैसले से नाराज 'द स्काई इज पिंक' की डायरेक्टर, बोलीं- 2 हफ्ते से जायरा से नहीं हुई बात

4 weeks ago

Jammu Kashmir

5 अगस्त को भारत में ऐतिहासिक बदलाव हुआ जिसके बाद देश भर में जश्न मनाया जा रहा हैं। मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाया गया है। ऐसे में आम लोग से लेकर सेलेब्स खुशियां मना रहे हैं। हाल ही में द स्काई इज पिंक की डायरेक्टर सोनाली बोस ने जम्मू-कश्मीर के मौजूदा हालात पर चिंता जताई है। जबसे जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा है वहां पर संचार और इंटरनेट सुविधाओं को बंद कर दिया गया है। 

कम्युनिकेशन बंद होने के कारण सोनाली की पिछले 2 हफ्ते से जायरा वसीम से बात नहीं हो पाई है। कश्मीर में कम्युनिकेशन के ब्लैकआउट पर चिंता और नाराजगी जताते हुए सोनाली बोस ने इंस्टा पर अपने विचार व्यक्त किए हैं।  पोस्ट में जायरा वसीम संग तस्वीर शेयर कर सोनाली ने लिखा- ''#NotmyIndia। दो हफ्ते हो गए जम्मू-कश्मीर में संचार सुविधाओं को बंद हुए। मेरा दिल भारी है क्योंकि भारत के लोकतंत्र पर काले बादल छाए हैं। 90 के दशक से जब कांग्रेस की सरकार थी, घाटी के लोगों के साथ हुए भयानक मानवाधिकारों के उल्लंघन से मेरा दिल दुखा है। मासूम युवाओं की गुमशुदगी और हत्या कोई नई बात नहीं है।

 लेकिन इस सरकार ने सारी हदें पार कर दी हैं।''  ''मैं हर भारतीय से पूछना चाहती हूं कि रातोंरात आपके राज्य को दो भागों में बांट दिया जाए और उसे केंद्रशासित प्रदेश में बदल दिया गया हो? तो आपको कैसा महसूस होगा? धारा 370 को एक पल के लिए छोड़ दें और ईमानदारी से जवाब दें। इस असंवैधानिक फैसले से मैं गुस्से और सदमे में हूं।'' ''अभी भी वहां पर ब्लैकआउट है। निजी तौर पर मैं वहां किसी को इससे पहले नहीं जानती थी। लेकिन अब वहां मेरी एक बच्ची है, जायरा वसीम।

Jammu Kashmir

 फिल्म द स्काई इज पिंक की दिल और आत्मा। मैं पिछले एक साल से उसे और उसके परिवार को जानती हूं। उनके साथ जम्मू-श्रीनगर में काफी वक्त बिताया। ये सब होने के 1 दिन पहले मैं उनके साथ जम्मू में थी। '' सोनाली ने लिखा- ''J-K में अचानक से सेना के जवानों की तैनाती से जायरा बेहद चिंतित थी। मैंने जायरा को आश्वस्त किया कि वो कुछ गलत ना सोचे। तब से मैं उससे संपर्क नहीं कर पा रही हूं।

Jammu Kashmir

 ऐसे मुश्किल के समय मैं उसे हिम्मत नहीं दे पा रही हूं। ईद की मुबाकरबाद भी नहीं दे पाई। मुझे यकीन है कि वो ईद नहीं मना पाए होंगे। हम हर दिन संपर्क में रहने का वादा कर अलग हुए थे। लेकिन मैं अभी अपने बच्ची तक नहीं पहुंच पा रही हूं।''